Bappi Lahiri Death: बप्पी लाहिड़ी का निधन

80 और 90 के दशक में भारत में डिस्को संगीत को लोकप्रिय बनाने वाले संगीतकार और गायक बप्पी लाहिड़ी का मंगलवार को मुंबई के क्रिटिकेयर अस्पताल में निधन हो गया। वह 69 वर्ष के थे। अस्पताल के निदेशक डॉ दीपक नामजोशी ने पीटीआई को बताया कि “लाहिड़ी को एक महीने के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था और सोमवार को उन्हें छुट्टी दे दी गई थी। लेकिन मंगलवार को उनकी तबीयत बिगड़ गई और उनके परिवार ने एक डॉक्टर को उनके घर बुलाया। उन्हें फिर अस्पताल लाया गया। उन्हें कई स्वास्थ्य समस्याएं थीं, जिसकी वजह से उनकी मृत्यु हो गई।”

बप्पी दा अलविदा

Bappi Lahiri Death: बप्पी लाहिड़ी “डिस्को किंग”

बप्पी लाहिड़ी, जिन्हें व्यापक रूप से भारत में “डिस्को किंग” के रूप में जाना जाता है, का जन्म 1952 में पश्चिम बंगाल के कलकत्ता में शास्त्रीय संगीत में एक समृद्ध परंपरा वाले परिवार में हुआ था। उन्होंने 19 साल की छोटी उम्र में एक संगीत निर्देशक के रूप में अपना करियर शुरू किया। उनके पिता, अपरेश लाहिड़ी एक प्रसिद्ध बंगाली गायक थे और उनकी मां, बंसारी लाहिड़ी एक संगीतकार और एक गायिका थीं, जो शास्त्रीय संगीत और श्यामा संगीत में पारंगत थीं।

Bappi Lahiri Death

Bappi Lahiri Death: बंगाली फिल्म मे गाने से हुई शुरुआत

उन्हें बंगाली फिल्म, दादू (1972) में गाना गाने का पहला अवसर मिला था। हालांकि हिंदी फिल्मों में उन्होंने अपनी जगह फिल्म नन्हा शिकारी (1973) से बनाना शुरू किया। ताहिर हुसैन की हिंदी फिल्म, ज़ख्मी (1975) से उन्हें बॉलीवुड में खुद को स्थापित किया और एक पार्श्व गायक के रूप में पहचान बनाई।

Bappi Lahiri Death: बप्पी लाहिड़ी का निधन

पीटीआईगायक ने हाल ही में आयुष्मान खुराना और जितेंद्र कुमार स्टारर ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ के लिए अपने हिट गाने ‘यार बिना चैन कहां रे’ को ‘अरे प्यार कर ले’ शीर्षक से रीमिक्स किया। यह गीत मूल रूप से अनिल कपूर और अमृता सिंह पर अनिल गांगुली की साहेब में फिल्माया गया था।

1970-80 के दशक के अंत में डिस्को डांसर, नमक हलाल और डांस डांस जैसे साउंडट्रैक के लिए लोकप्रिय, उन्होंने भारतीय सिनेमा के साथ संश्लेषित डिस्को संगीत को बेहतर ढंग से एकीकृत करने में मदद की।

Bappi Lahiri Death
बप्पी लाहिड़ी का निधन – फोटो

बप्पी लाहिड़ी कई गंभीर बीमारियों की चपेट में आ गए थे


बप्पी लाहिड़ी ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया और बार-बार होने वाले सीने में संक्रमण से पीड़ित थे। स्वास्थ समस्या होने के कारण लाहिड़ी 29 दिनों तक जुहू के क्रिटिकेयर अस्पताल में अस्पताल में भर्ती रहे। वह ठीक भी हो गए थे और 15 फरवरी उन्हें घर जाने के लिए अनुमति दी गई थी। लेकिन घर जाने के बाद फिर उनकी तबीयत अचानक बिगड़ गई और फिर उन्हें अस्पताल लाया गया। उन्हें कई स्वास्थ्य समस्याएं थीं जिसके कारण उनकी मृत्यु हो गई। 

Also Readस्वर्ग के बाद इस लोक में जाती है आत्मा!

मशहूर गायक और संगीतकार बप्पी लाहिड़ी ऑब्स्ट्रक्टिव स्लीप एपनिया (OSA) और रीकरेंट चेस्ट इन्फेक्शन से ग्रसित थे। लाहिड़ी के निधन पर पीएम मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शोक जताया है।

राष्ट्रपति कोविंद ने जताया शोक
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी गायक बप्पी लाहिड़ी के निधन पर शोक जताया। राष्ट्रपति ने ट्वीट करते हुए लिखा कि बप्पी लाहिड़ी एक बेजोड़ गायक-संगीतकार थे। उनके गीतों को न केवल भारत में बल्कि विदेशों में भी लोकप्रियता मिली। उनकी विविध रेंज में युवा और साथ ही भावपूर्ण धुनें शामिल थीं। उनके यादगार गीत लंबे समय तक श्रोताओं को खुश करते रहेंगे। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदना।

अमित शाह ने जताया शोक
इसके अलावा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी लाहिड़ी के निधन पर दुख जताते हुए कहा कि महान गायक और संगीतकार बप्पी लाहिड़ी के निधन के बारे में जानकर दुख हुआ। उनके निधन से भारतीय संगीत की दुनिया में एक बड़ा खालीपन आ गया है। बप्पी दा को उनके बहुमुखी गायन और जीवंत स्वभाव के लिए याद किया जाएगा। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं।

ममता बनर्जी ने जताया शोक
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शोक जताते हुए कहा कि महान गायक और संगीतकार बप्पी लाहिड़ी के असामयिक निधन के बारे में सुनकर स्तब्ध हूं। हमारे उत्तर बंगाल का एक लड़का, वह अपनी प्रतिभा और कड़ी मेहनत के बल पर अखिल भारतीय प्रसिद्धि और सफलता तक पहुंचा, और अपने संगीत योगदान से हमें गौरवान्वित किया। 

भारतीय क्रिकेटर विराट कोहली ने जताया शोक
भारतीय क्रिकेटर विराट कोहली ने महान गायक बप्पी लाहिड़ी के निधन पर शोक जताया है। उन्होंने कू करते हुए लिखा कि लाहिड़ी भारतीय संगीत इंडस्ट्री के एक आइकॉन थे। बप्पी लाहिड़ी आप बहुत याद आएंगे। भगवान आपकी आत्मा को शांति दे।

Also Read: लता मंगेशकर का निधन, शिवसेना सांसद संजय राउत ने ट्वीट कर दी जानकारी

Leave a Reply

You May Also Like

Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा कैसे ले सकते हैं?

Table of Contents Hide Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: नामदीक्षा लेना…

भगवान कौन है?[Bhagwan Kaun Hai]: संत रामपाल जी भगवान है।

Table of Contents Hide भगवान कौन है? दो शक्तियां- सत्य पुरुष और…

Rishi Parashara : पाराशर ऋषि ने अपनी पुत्री के साथ किया संभोग

पाराशर ऋषि भगवान शिव के अनन्य उपासक थे। उन्हें अपनी मां से पता चला कि उनके पिता तथा भाइयों का राक्षसों ने वध कर दिया। उस समय पाराशर गर्भ में थे। उन्हें यह भी बताया गया कि यह सब विश्वामित्र के श्राप के कारण ही राक्षसों ने किया। तब तो वह आग बबूला हो उठे। अपने पिता तथा भाइयों के यूं किए वध का बदला लेने का निश्चय कर लिया। इसके लिए भगवान शिव से प्रार्थना कर आशीर्वाद भी मांग लिया।

Marne Ke Baad Kya Hota Hai: स्वर्ग के बाद इस लोक में जाती है आत्मा!

Table of Contents Hide Marne Ke Baad Kya Hota Hai : मौत…