Cancer Survivors Day 2021
Cancer Survivors Day 2021

Cancer Survivors Day 2021: आज के दिन को हम कैंसर योद्धाओं के लिए मनाते हैं जिन्होंने कैंसर को मात दी या यूं कहें कि जो कैंसर से जूझ रहे हैं संघर्ष कर रहे हैं यह दिन उन कैंसर पीड़ित मानव के लिए है।

National Cancer Survivors Day कब मनाया जाता है?

आप सभी को जानकारी होगी कि यह हर वर्ष जून के पहले रविवार को मनाया जाता है और इस साल 2021 में 06 June 2021 रविवार को National Cancer Survivors Day 2021 मनाया जायेगा।

कैंसर कितने प्रकार का होता है?

 अनुभवी डॉक्टर के अनुसार कैंसर कई प्रकार के होते हैं और यह किसी भी उम्र के व्यक्ति के साथ हो सकता है।

Type of Cancer Disease

  1. गले का कैंसर
  2. मुंह का कैंसर
  3. स्तन कैंसर (ब्रेस्ट कैंसर)
  4. ब्लड कैंसर
  5. स्किन कैंसर
  6. सर्वाइकल कैंसर
  7. ब्रेन कैंसर
  8. बोन कैंसर
  9. प्रोस्टेट कैंसर
  10. लंग कैंसर
  11. पैनक्रियाटिक कैंसर

 इनमें से मुख्य रूप से गले का कैंसर मुंह का कैंसर ब्लड कैंसर और ब्रेस्ट कैंसर सबसे ज्यादा पाए जाते हैं।

Cancer Survivors Day 2021: नेशनल कैंसर सर्वेयर्स डे मनाने का मुख्य उद्देश्य यह है कि लोगों को कैंसर के प्रति जागरूक किया जाए तथा उनको बताया जाए कि किन किन कारणों से कैंसर की बीमारी होती है और अपने आसपास में सभी को कैंसर के प्रति जागरूक करें और जो व्यक्ति कैंसर से पीड़ित है उनकी हर संभव मदद की जा सके।

 जो व्यक्ति कैंसर की लड़ाई लड़ रहे हैं उनको हमें हमेशा हिम्मत देनी चाहिए तथा उनको बताना चाहिए कि परमात्मा पर विश्वास रखें सत भक्ति करने से हर प्रकार की बीमारियां ठीक हो जाती है।

Cancer Survivors Day 2021: कैंसर की शुरुआत कैसे होती है?

हमारे शरीर में कोशिका के जीन बदलाव से कैंसर की शुरुआत होती है। जिन बदलाव यह स्वयं भी बदल सकते हैं या फिर किसी दूसरे कारण से भी ऐसा हो सकता है जैसे- गुटका, तंबाकू जैसी नशीली चीजों को खाने से अल्ट्रावालेट रे या फिर रेडिएशन आदि इसके लिए जिम्मेदार हो सकते हैं। अधिकतर तो इम्यून सिस्टम ऐसी कोशिकाओं को खत्म कर देता है लेकिन कभी कबार कैंसर की कोशिकाएं इम्यून सिस्टम पर हावी हो जाती है और जब कोशिकाएं इम्यून सिस्टम पर हावी हो जाती है तब व्यक्ति कैंसर की चपेट में आ जाता है।

यह भी पढे Global Mother Father Day 2021


Cancer Survivors Day 2021: कैंसर से कैसे बचा जा सकता है?

विश्व में कैंसर से बचने के लिए तंबाकू से बचाव एकमात्र उपाय हैं। अगर आप चाहते हैं कैंसर से पीड़ित ना हो इसके लिए तंबाकू गुटखा इसका सेवन बिल्कुल भी ना करें।

कैंसर का वजन अधिक होने और मोटापे से सीधा संबंध है मोटे इंसान को कैंसर का खतरा हो सकता है इसीलिए अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें।
सूर्य की हानिकारक किरणों से बचना चाहिए।
नियमित शारीरिक व्यायाम करना चाहिए जिससे शारीरिक वजन ना बढ़े।

Cancer Survivors Day 2021: कैंसर जैसी भयानक बीमारी भी ठीक हो सकती है अगर हम सच्चे दिल से पूर्ण संत की शरण में जाकर सत भक्ति करें तो हर प्रकार की बीमारी ठीक हो सकती है पवित्र वेद में लिखा है परमात्मा अपने साधक के घोर पाप को नाश करके उसकी आयु बढ़ा देता है।

यह भी पढे World Environment Day 2021

Cancer Survivors Day 2021: अध्यात्मिक बचाव

 वर्तमान के सच्चे संत संत रामपाल जी महाराज के अनुयाई बताते हैं कि उनसे नाम दीक्षा लेकर के जो सत भक्ति करते हैं उनके कैंसर जैसी भयानक बीमारी ठीक हुई है और इस बीमारी ठीक होने में रोगी का एक भी पैसा खर्च नहीं होता संत रामपाल जी जो भक्ति देते हैं उससे लोगों को लाभ मिलता है और उनकी कैंसर एचआईवी और भी अनेकों लाइलाज बीमारियां ठीक होती है।

यह भी पढे भगवान v/s पूर्ण परमात्मा

 जो कैंसर से ग्रसित है और उन्होंने अपनी जिंदगी की आशा छोड़ दी है उनको हमें आसपास के माहौल को बना करके रखना चाहिए तथा उनको जीने की उम्मीद दिखानी चाहिए जो कैंसर पीड़ित व्यक्ति है उन्होंने अपने मन में नकारात्मक सोच जो पैदा कर रखी है

हमें नेशनल कैंसर डे के बारे में जानकारी देनी चाहिए तथा उनके आसपास के माहौल को ठीक करना चाहिए और जो व्यक्ति नशा करते हैं, उनको भी यह सलाह देनी चाहिए कि कैंसर जैसी भयानक बीमारी आपको भी लग सकती है अगर आपने अपने खानपान के व्यवहार का बदलाव नहीं किया तो।

Leave a Reply

You May Also Like

Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा कैसे ले सकते हैं?

Table of Contents Hide Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: नामदीक्षा लेना…

भगवान कौन है?[Bhagwan Kaun Hai]: संत रामपाल जी भगवान है।

Table of Contents Hide भगवान कौन है? दो शक्तियां- सत्य पुरुष और…

Rishi Parashara : पाराशर ऋषि ने अपनी पुत्री के साथ किया संभोग

पाराशर ऋषि भगवान शिव के अनन्य उपासक थे। उन्हें अपनी मां से पता चला कि उनके पिता तथा भाइयों का राक्षसों ने वध कर दिया। उस समय पाराशर गर्भ में थे। उन्हें यह भी बताया गया कि यह सब विश्वामित्र के श्राप के कारण ही राक्षसों ने किया। तब तो वह आग बबूला हो उठे। अपने पिता तथा भाइयों के यूं किए वध का बदला लेने का निश्चय कर लिया। इसके लिए भगवान शिव से प्रार्थना कर आशीर्वाद भी मांग लिया।

Marne Ke Baad Kya Hota Hai: स्वर्ग के बाद इस लोक में जाती है आत्मा!

Table of Contents Hide Marne Ke Baad Kya Hota Hai : मौत…