Chhath Puja: छठ पूजा क्या है? आओ जाने छठ पूजा का वास्तविक ज्ञान।

Chhath Puja: लोकपर्व छठ पूजा (Chhath Puja 2021) की तैयारियां शुरू हो गई हैं। दिवाली के छठे दिन कार्तिक मास शुक्ल पक्ष की षष्टी तिथि को छठ पूजा मनाया जाता है। भारत में कई त्योहार मनाए जाते हैं, छठ पूजा सूर्य उपासना का एक लोक पर्व है। इन त्योहारों से भारत के लोगों की धार्मिक भावनाएं जुड़ी हुई हैं। इसलिए वह हर त्योहार को बड़े उत्साह से मनाते हैं। छठ पूजा एक ऐसा त्योहार है, मुख्‍य रूप से बिहार, झारखंड का ये त्‍योहार 4 दिन का होता है।

ऐसे में जो लोग अपने गांव-शहर से दूर हैं वे अपने अपने घर पहुंच रहे हैं। जो लोग छठ पर्व पर घर नहीं जा सकते। वे अपने अपने इलाके में ही छठ मनाने के लिए तैयारियों में जुट गए हैं।


Chhath Puja: छठ पूजा 2021 तिथि

Chhath-Puja
Chhath Puja


हिन्दू कैलेंडर के कार्तिक मास शुक्ल पक्ष की षष्टी तिथि को यानी दिवाली के छठे दिन (Chhath Puja 2021 Date) छठ पूजा मनाया जाता है. अंग्रेजी कैलेंडर के मुताबिक, इस बार छठ पूजा 10 नवंबर को मनाया जाएगा. ऐसे में दिवाली खत्‍म होते ही घाटों को साफ करने और सजाने का काम भी शुरू हो गया है. 

Chhath Puja: छठ पूजा कब है?


-8 नवंबर 2021 यानी सोमवार को नहाय खाय के साथ छठ पूजा का प्रारंभ होगा।

-9 नवंबर 2021 यानी मंगलवार को खरना मनाया जाएगा।

-10 नंवबर 2021 यानी बुधवार को छठ पूजा मनाया जाएगा जिसमें डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया जाए।

-11 नवंबर 2021यानी गुरुवार को उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देने के साथ छठ पूजा का समापन होगा।

छठ पूजा के प्रकार


समाज में छठ पर्व दो प्रकार का होता है, जिसमें एक शक संवत कलैण्डर के पहले महीने के चैत्र में मनाया जाता है, जिसे चैती छठ के नाम से जाना जाता है और दूसरा कार्तिक मास की दीपावली के छह दिन बाद मनाने की परंपरा है। जिसे कार्तिक छठ के नाम से जाना जाता है। इन चार दिनों के दौरान उपवास करने वाले को सख्त नियमों का पालन करना होता है।

छठ पूजा का त्योहार कैसे मनाया जाता है?
ऐसे मनाया जाता है छठ पूजा 2021 का पर्व।

पहला दिन
इस व्रत की शुरुआत पहले दिन स्नान करने से होती है, इस दिन व्रत (स्थानीय भाषा में पार्वतीं कहा जाता है) घर की सफाई के बाद स्नान कर पहले कद्दू की सब्जी, अरवा चावल और चने की दाल बना लें. . भक्त भोजन करते हैं।

दूसरा दिन
नहाय खाय के अगले दिन को खरना या लोहंडा कहा जाता है। इस दिन से व्रत की शुरुआत होती है, इस दिन पूरे दिन उपवास करने के बाद शाम को किसी नदी या तालाब में स्नान करके, वहां से पानी, मिट्टी के बर्तन और गन्ने के रस से बने दूध को चूल्हे पर लाकर रख देते हैं. की खीर के साथ ही चावल का पिसा और घी की चुपी रोटी भी बनाई जाती है. इस भोजन में नमक का प्रयोग नहीं किया जाता है।

तीसरे दिन
तीसरा दिन संध्या अर्घ्य का होता है। इस दिन गेहूं, गुड़ और घी से ठेकुआ और कसार के अलावा अन्य व्यंजन भी व्रत और उनके परिवार के सदस्यों द्वारा पूरी साफ-सफाई के साथ तैयार किए जाते हैं,

पूजा में इस्तेमाल होने वाले बर्तन पीतल, बांस या मिट्टी के बने होते हैं. शाम के समय पार्वतीन अपने परिवार और अन्य रिश्तेदारों के साथ, एक बांस की टोकरी में तैयार फल, फूल और अन्य व्यंजन लेकर नदी या तालाब के किनारे डूबते सूरज को अर्घ्य देने जाती है, फिर अगली सुबह वही प्रक्रिया फिर से दोहराई जाती है और उगते सूरज को अर्घ्य देकर त्योहार समाप्त होता है।

• यद्यपि ये सभी साधनाएँ गीता अध्याय 16 के श्लोक 23 और 24 के अनुसार सार्थक हैं, फिर भी न तो हमारा उद्धार संभव है और न ही कोई लाभ।

छठ पूजा 2021: पौराणिक कथाओं के अनुसार


पुराणों के अनुसार, त्रेतायुग में रामायण के दौरान छठ पूजा की शुरुआत हुई थी, जब राम रावण को मारकर सीता को वापस ले कर लौटे थे, तब मुद्गल ऋषि ने राम को सीता के साथ पानी में खड़े होने और सूर्य देव को अर्घ्य देने की सलाह दी थी। उन्होंने जल चढ़ाकर और सीता को शुद्ध करके यह व्रत किया।

■ Also Read: मीरा बाई की जीवनी, मीरा बाई की मृत्यु कैसे हुई?

Chhath Puja छठ पूजा से जुड़ी कहानी


Chhath Puja प्रियव्रत नाम का एक प्रतापी राजा हुआ करता था। शादी के कई साल बाद भी उनकी रानी मालिनी को कोई संतान नहीं हुई, राजा ने अपने राजगुरु से सलाह ली। उनके राजगुरु ने यज्ञ अनुष्ठान करने की सलाह दी। राजन ने पूरे विधि-विधान से किया यज्ञ, ऋषि ने रानी मालिनी को खाने के लिए दी खीर, कुछ समय बाद रानी गर्भवती हो गई।

गर्भ पूर्ण होने पर रानी को मिला मृत पुत्र, मृत पुत्र का पार्थिव शरीर लेकर अकेले श्मशान घाट पर पहुंचे राजा, पुत्र के वियोग से व्याकुल राजा ने आत्महत्या करने का सोचा, तभी भगवान की मानस पुत्री देवसेना वहाँ प्रकट हुई और राजा को सन्तानोत्पत्ति का मार्ग बताते हुए देवी ने पूर्ण विधि-विधान से पूजा करने की सलाह देकर उन्हें संतान प्राप्ति का आश्वासन देकर मंत्रमुग्ध कर दिया।

■ Also Read: Bhai Dooj 2021 [Hindi]: भाई दूज पर जानिए कैसे हो सकती है भाई की रक्षा?

जानिए छठ पूजा 2021 पर वास्तविक ज्ञान


छठ पूजा का विधान इतिहास के अलावा हमारे किसी प्रमाणित पवित्र ग्रंथ में नहीं है, हिंदू धर्म के पवित्र ग्रंथ श्रीमद्भागवत गीता अध्याय 6 श्लोक 16 में गीता ज्ञान दाता कहते हैं

कि हे अर्जुन! यह योग न तो अधिक खाने वाले के लिए सफल होता है और न ही उसके लिए जो बिल्कुल भी नहीं खाता है, अर्थात् न तो यह भक्ति और न ही उपवास करने वाले के लिए, न ही अधिक सोने वाले के लिए, न ही जागने वाले के लिए। बहुत। जैसा कि आप सभी देख सकते हैं, इस श्लोक में उपवास करना पूरी तरह से वर्जित है।

जहां तक ​​पुत्र प्राप्ति की बात है तो परम संत सतगुरु रामपाल जी महाराज जी हमारे शास्त्रों से सिद्ध करते हैं कि, यहां सभी जीवों को उतना ही मिलता है जितना उनके भाग्य में लिखा होता है, यदि भाग्य में कोई लेन-देन नहीं बचा है। तो संतान की प्राप्ति नहीं होती, भाग्य से बढ़कर कोई दे सकता है तो वह परमात्मा कबीर साहेब है। छठ व्रत जैसी मनमानी पूजा को लेकर परमपिता परमात्मा कबीर साहेब जी ने कहा है-

आपे लीपे आपे पोते, आपे बनावे अहोइयाँ।

उस पत्थर पे कुत्ता मुत्ते, अक्ल कहाँ पे खोया ।।

अंध भक्ति पर कटाक्ष करते हुए कबीर साहेब जी कहते हैं कि एक बूढ़ी औरत चार ईंटों को जोड़कर उसे छलांग की देवी का दर्जा देती है और परिवार की भलाई की कामना करती है, फिर जैसे ही वह वहां से चली जाती है,

कुत्ता उस पत्थर के ऊपर है। वह पेशाब करके चला जाता है, यहाँ कबीर भगवान समझाने की कोशिश कर रहे हैं कि आप पत्थर की मूर्ति से अपने और अपने परिवार की भलाई के लिए प्रार्थना कर रहे हैं जो अपनी रक्षा नहीं कर सकती।

माया ही काल की पत्नी है जो हम सभी को इस चौरासी लाख योनियों में जीवित रखने में काल की सहायता करती है। अधिक जानकारी के लिए संत रामपाल जी महाराज द्वारा लिखित “अंध श्रद्धा भक्ति खतरा-ए-जान” पुस्तक अवश्य पढ़ें।

गीता अध्याय नं। 16 के मंत्र 23 में गीता ज्ञान दाता ने स्पष्ट कहा है कि जो शास्त्र के विरुद्ध साधना करता है उसे न इस लोक में सुख मिलता है और न परलोक में। शास्त्रों के अनुसार भक्ति पूर्ण संत ही बता सकते हैं।

■ Also Read: गंगा मैया (नदी ) की उत्पत्ति कैसे हुई? जानिए इसका इतिहास।

■ Also Read: Marne Ke Baad Kya Hota Hai: मृत्यु के बाद का सच क्या है?

2 thoughts on “Chhath Puja: छठ पूजा क्या है? आओ जाने छठ पूजा का वास्तविक ज्ञान।

Leave a Reply