Childrens-Day

Children’s Day (बाल दिवस 2021): प्रत्येक वर्ष बाल दिवस (Children’s Day) 14 नवंबर को मनाया जाता है। आप भी जानते है कि पंडित जवाहरलाल नेहरू को बच्चों और गुलाब के फूलों से विशेष प्रेम था। बच्चों को इस दिन खूबसूरत संदेशों के जरिए बाल दिवस के अवसर पर प्रेरित करने वाली शिक्षाएं दी जाती हैं। सभी बच्चे इस दिन की हर वर्ष बेसब्री से इंतजार करते हैं और उनके लिए यह एक विशेष दिन खास होता है जो पूरी तरह से उन्हें समर्पित है।

Children’s Day: हेलो बच्चों, कैसे हो आप सभी? Happy Children Day आपको इस पोस्ट में आपका तहे दिल से स्वागत करता हूँ। आप इस पोस्ट में इस दिवस से संबन्धित wishes और quotes को जानेंगे, जिसे आप अपने friends के साथ Whatsapp पर शेयर कर विश कर सकते है।

यह दिवस बच्चों की प्रतिभाओं, जिज्ञासाओ को उजागर करने के लिए समर्पित है।
भारतवर्ष ही नहीं अपितु विश्वभर के कई देश अपने तरीके से अलग-अलग तारीखों पर बाल दिवस मनाते हैं। माता पिता को अपने बच्चों को सतसाधना करना बचपन से ही करना सिखाना ही चाहिए।
कुछ अच्छे आदते बचपन में ही डाल देते हैं तो बच्चे आसानी से उन चीजों को अपना लेते हैं।

Children’s Day: क्यों मनाया जाता है बाल दिवस?

Children’s Day भारत वर्ष में पूरे उत्साह के साथ मनाया जा रहा है।  जवाहर लाल नेहरू का जन्‍म प्रयाग राज में 14 नवंबर, 1889 (November 14, 1889) को हुआ था। पंडित जी को बच्चों से बहुत प्यार था इसी कारण से बच्‍चे उन्‍हें ‘चाचा नेहरू’ कहकर बुलाते हैं। नेहरू जी के अनुसार बच्चे देश का उज्ज्वल भविष्य हैं इसलिए बच्चों को पूरा प्यार किया जाना चाहिए और उनकी अच्छी तरह से देखभाल की जानी चाहिए ताकि बच्चे अपने पैरों पर खड़े हो सकें। इस बार बाल दिवस 2021 रविवार के दिन मनाया जाएगा।

Children’s Day: कैसे हुई देश में बाल दिवस मनाने की शुरुआत?

27 मई 1964 को तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु के निधन के पश्चात बच्चों के प्रति उनके अपार स्नेह को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया कि प्रत्येक वर्ष उनके जन्मदिवस पर यानी नवंबर 14 को बाल दिवस मनाया जाएगा और बाल दिवस के कार्यक्रम पूरे देश में आयोजित किए जाएंगे। तभी से देश में प्रत्येक वर्ष नवंबर 14 को बड़े ही उत्साह के साथ यह दिवस मनाया जाता है। 

सभी अपने राष्ट्रीय महत्व को देखते हुए अलग-अलग तारीखों पर बाल दिवस मनाते हैं। भारत में बाल दिवस प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के निधन के बाद से वर्ष 1964 से नवंबर 14 को मनाया जाने लगा।

Children’s Day: क्या उद्देश्य है संयुक्त राष्ट्र (UN) के अनुसार बाल दिवस मनाने का?

बच्चों में छिपी प्रतिभा को उजागर करने, उन्हें उनके अधिकारों के प्रति सजग करने और उनकी भावनाओं को प्रबल करने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा ने विश्व के सभी राष्ट्रों से सिफारिश की कि इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए सभी देशों को बाल दिवस मनाना चाहिए।

संयुक्त राष्ट्र (UN) के अनुसार बाल दिवस को विश्व भर में भाईचारे और समझ के प्रतीक के रूप मनाया जाना चाहिए और यह दिन बच्चों के कल्याण को बढ़ावा देने के विचार करने के लिए समर्पित एक अनुपम अवसर होना चाहिए।

Children’s Day: Latest Quotes & wishes

Children’s Day: यह साल 2021 का है, इसलिए मैं आपको इस बात की गारंटी देता हूँ, आपको इस पोस्ट में Latest Quotes & wishes मिलेगा, जो आपको कहीं ओर देखने को नहीं मिलेगा, तो चलिये इस पोस्ट को शुरू करते है-
हम इस सेक्शन में हिन्दी कोट्स publish कर रहे है।

■ यह भी पढ़ें: सीबीएसई ने 10वीं-12वीं की परीक्षा को लेकर लिया ये बड़ा फैसला


बाल दिवस है जन्मदिन चाचा का, ये है हमको सबसे प्यारा,
काश आज भी चाचा होते पास हमारे, इनका प्यार है सबसे न्यारा।

मैडम आज ना डांटना हमको
आज हम खेलेंगे गाएँगे
साल भर हमने किया इंतजार
आज हम बाल दिवस मनाएंगे


देश के प्रगति के हम है आधार
हम करेंगे चाचा नेहरू के सपने साकार
children’s Day

आज है जन्म दिवस मेरे चाचा नेहरु का
मेरा उनका नाता दिया बाती का
चाचा का है प्यारा फूल गुलाब
मैं तो कहूँ इन्कलाब जिंदाबाद

children’s Day

Children Day Quotes From Teachers


आज है जन्म दिवस मेरे चाचा नेहरू का,
मेरा उनका नाता दीया और बाती का,
चाचा का है प्यारा फूल गुलाब
मैं तो कहूँ इंकलाब जिंदाबाद
Happy Children’s Day…

बाल दिवस है जन्मदिवस चाचा का,
ये है हमको सबसे प्यारा,
काश आज भी चाचा होते पास हमारे,
इनका प्यार है सबसे न्यारा।


बचपन में सबसे अधिक पूछा गया एक सवाल…
बड़े होकर क्या बनना है?
अब जाकर जवाब मिला कि फिर से बच्चा बनना है।
बाल दिवस की बधाई

चाचा का है जन्मदिन सभी बच्चे आएँगी,
चाचा जी को गुलाब फूल देकर सारा समां महकाएँगे!
Happy Children’s Day

टीचर टीचर, आज ना कुछ कहना हमको,
आज हम खूब मौज उड़ाएंगे,
साल भर तो आपकी हमनी सुनी,
आज हम बाते आपको अपनी बताएँगे
Happy Children’ Day

हम है इस भारत के बच्चे
हम नहीं है अकल के कच्चे
हम आसू नहीं बहाते
क्योंकि हम है सीधे सरल और सच्चे
Happy Children’s Day

Children’s Day Thoughts
आज का दिन है बच्चों का
कोमल मन का और कच्ची कलियों का
मन के सच्चे ये प्यारे बच्चे
चाचा नेहरु को हैं प्यारे बच्चे.

बाल दिवस है जन्मदिन चाचा का, ये है हमको सबसे प्यारा,
काश आज भी चाचा होते पास हमारे, इनका प्यार है सबसे न्यारा।

मैडम आज ना डांटना हमको
आज हम खेलेंगे गाएँगे
साल भर हमने किया इंतजार
आज हम बाल दिवस मनाएंगे


देश के प्रगति के हम है आधार
हम करेंगे चाचा नेहरू के सपने साकार
Happy children’s Day

आज है जन्म दिवस मेरे चाचा नेहरु का
मेरा उनका नाता दिया बाती का
चाचा का है प्यारा फूल गुलाब
मैं तो कहूँ इन्कलाब जिंदाबाद
whatsapp

Children Day Quotes From Teachers
आज है जन्म दिवस मेरे चाचा नेहरू का,
मेरा उनका नाता दीया और बाती का,
चाचा का है प्यारा फूल गुलाब
मैं तो कहूँ इंकलाब जिंदाबाद
Happy Children’s Day…

बाल दिवस है जन्मदिवस चाचा का,
ये है हमको सबसे प्यारा,
काश आज भी चाचा होते पास हमारे,
इनका प्यार है सबसे न्यारा।

बचपन में सबसे अधिक पूछा गया एक सवाल…
बड़े होकर क्या बनना है?
अब जाकर जवाब मिला कि फिर से बच्चा बनना है।
बाल दिवस की बधाई

चाचा का है जन्मदिन सभी बच्चे आएँगी,
चाचा जी को गुलाब फूल देकर सारा समां महकाएँगे!
Happy Children’s Day

हम है इस भारत के बच्चे
हम नहीं है अकल के कच्चे
हम आसू नहीं बहाते
क्योंकि हम है सीधे सरल और सच्चे
Happy Children’s Day

टीचर टीचर, आज ना कुछ कहना हमको,
आज हम खूब मौज उड़ाएंगे,
साल भर तो आपकी हमनी सुनी,
आज हम बाते आपको अपनी बताएँगे
Happy Children’ Day


Children’s Day Thoughts
आज का दिन है बच्चों का
कोमल मन का और कच्ची कलियों का
मन के सच्चे ये प्यारे बच्चे
चाचा नेहरु को हैं प्यारे बच्चे.

एक बचपन का ज़माना था, होता जब खुशियों का खज़ाना था,
चाहत होती चाँद को पाने की, पर दिल तो रंगबिरंगी तितली का दिवाना था!


प्यारे बच्चों, ये रही सबसे latest children’s quotes and wishes in hindi and English, जिसे अपने दोस्तों के साथ सबसे पहले शेयर कर चौंका दे, क्योंकि कुछ चीजे सबसे पहले करने का अपना ही मजा है।

■ यह भी पढ़ें:  बाल दिवस (Children’s Day) पर जानिए कैसे मिलेगी बच्चों को जीने की राह?

Leave a Reply

You May Also Like

Rishi Parashara : पाराशर ऋषि ने अपनी पुत्री के साथ किया संभोग

पाराशर ऋषि भगवान शिव के अनन्य उपासक थे। उन्हें अपनी मां से पता चला कि उनके पिता तथा भाइयों का राक्षसों ने वध कर दिया। उस समय पाराशर गर्भ में थे। उन्हें यह भी बताया गया कि यह सब विश्वामित्र के श्राप के कारण ही राक्षसों ने किया। तब तो वह आग बबूला हो उठे। अपने पिता तथा भाइयों के यूं किए वध का बदला लेने का निश्चय कर लिया। इसके लिए भगवान शिव से प्रार्थना कर आशीर्वाद भी मांग लिया।

Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा कैसे ले सकते हैं?

Table of Contents Hide Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: नामदीक्षा लेना…

Ranbir Alia Wedding: कपूर खानदान की बहू बनीं आलिया भट्ट, तस्वीरें वायरल

Table of Contents Hide शादी से पहली फोटो आई सामनेआलिया ने शेयर…

Mirabai Story in Hindi: मीरा बाई की जीवनी, मीरा बाई की मृत्यु कैसे हुई

Mirabai Story in Hindi: कृष्ण भक्ति में लीन रहने वाली मीराबाई को राजस्थान में सब जानते ही होंगे। आज हम जानेंगे कि मीराबाई का जन्म कब और कहां हुआ? {Mirabai Story in Hindi} मीराबाई के गुरु कौन थे? कृष्ण भक्ति से क्या लाभ मिला? मीराबाई ने अपने जीवन में बहुत संघर्ष किया। गुरु बनाना क्यों आवश्यक है? आइए जानते हैं।