Christmas Day Hindi

Christmas 25 दिसंबर को ईसाई धर्म का सबसे खास पर्व मनाया जाता है जैसा कि आप जानते होंगे कि हर वर्ष 25 दिसंबर को क्रिसमस मनाया जाता है यीशु मसीह का जन्म हुआ था इसी उपलक्ष में क्रिसमस मनाया जाता है। आज हम जानेंगे कि क्रिसमस क्यों मनाया जाता है? इससे क्या लाभ होते हैं? हेवन में जाने के लिए कौन सी भक्ति करनी चाहिए। मनुष्य जन्म का मुख्य उद्देश्य क्या है?

क्रिसमस दिवस (Christmas Day Hindi) कब है?

 christmas-day

Christmas Day Hindi: 25 दिसंबर को ईसाई धर्म का सबसे खास पर्व मनाया जाता है जैसा कि आप जानते होंगे कि हर वर्ष 25 दिसंबर को क्रिसमस मनाया जाता है यीशु मसीह का जन्म हुआ था इसी उपलक्ष में क्रिसमस मनाया जाता है। आज हम जानेंगे कि क्रिसमस क्यों मनाया जाता है?

Christmas Day Hindi: क्रिसमस (Christmas Day Hindi) क्यों मनाया जाता है

25 दिसंबर को ईसा मसीह का जन्म दिवस होता है इसी उपलक्ष में क्रिसमस मनाया जाता है जिसमें एक तरह के पेड़ को सजाया जाता है जिस पर रंग बिरंगी लाइट लगाई जाती है और तोहफे आधी लटकाए जाते हैं जाता है कि इस पेड़ से घर की नेगेटिविटी, बुरी ऊर्जा दूर होती है।
पर के इस पेड़ को लोग क्रिसमस ट्री कहते हैं ऐसा माना जाता है कि यीशु के माता-पिता को शुभकामनाएं देने के लिए देवदूतो ने फर के पपेड़ को सितारों से सजाया था कहा जाता है कि जर्मनी से पेड़ सजाने की परंपरा शुरू हुई।

Christmas Day Hindi: सांता क्लॉस कौन है?


Christmas Day Hindi: क्रिसमस के मौके पर अक्सर सांता क्लॉस को देखा होगा ऐसा कहा जाता है कि सांता क्लॉस उत्तरी ध्रुव पर रहते हैं और उड़ने वाली सलेस पर चलते हैं। दरअसल, एक बार संत निकोलस को सांता क्लॉस माना जाता है क्योंकि रात के वक्त उपहार बांटे थे उन्होंने पूरे जीवन गरीब और जरूरतमंद लोगों की मदद की।
वह उपहार को छुपा कर देते थे। जैसे मुझे में गिफ्ट छुपाने के बाद आपने सुनी होगी एक बार उन्होंने एक शख्स की मदद से जुराब में सोना छुपा दिया था किसी ना किसी तरह से लोगों को छुपाकर गिफ्ट देते थे उनकी मदद करते थे।
तब से ही यह रिवाज चल पड़ा है क्रिसमस के दिन एक शख्स को सांता क्लॉस बनाकर छुपकर गिफ्ट दिए जाते हैं। यूरोप में करीब 12 दिनों तक क्रिसमस मनाया जाता है यीशु के जन्म की खुशियां मनाते हैं।

Christmas Day Hindi: क्रिसमस की कहानी एवं इतिहास क्या है?

Christmas Day Hindi: मान्यताओं के अनुसार, ईसा मसीह का जन्म मरियम के गर्भ से हुआ था। मरियम गलीलिया शहर के नाजरेथ गांव की रहने वाली महिला थीं। मरियम की सगाई यूसुफ नामक व्यक्ति से हुई थी। मरीयम को स्वप्न में उनके गर्भ से परमेश्वर के पुत्र यीशु को जन्म देने की भविष्यवाणी हुई। इस प्रकार अविवाहित मरियम गर्भवती हो गई। उसके होने वाले पति यूसुफ को मरियम के चरित्र को लेकर शंका उत्पन्न हो गई और उसे मरियम से विवाह करने में संशय रहने लगा। लेकिन एक फरिश्ते ने स्वप्न में ही यूसुफ को यीशु मसीह के जन्म के राज की बात बताई और उसने मरियम से विवाह करने की सहमति दे दी।

 Christmas Day Hindi: उस समय मैरी और जोसेफ एक जगह पर रहते थे जो सम्राट ऑगस्टस द्वारा शासित रोमन साम्राज्य का एक हिस्सा था। बादशाह ने सभी को अपने गृहनगर लौटने का आदेश दिया, जिसके कारण मैरी और जोसेफ नाजरेथ से बेथलहम तक गए। जब वे बेथलहम पहुँचे, तो सभी घर भरे हुए थे क्योंकि सम्राट द्वारा दिए गए आदेशों के कारण बहुत सारे लोग उस समय वापस आ गए थे।

मैरी और जोसेफ केवल उसी स्थिति में रह सकते थे और वही यीशु का जन्म हुआ था। जिन खेतों में चरवाहे अपनी भेड़ों को पाल रहे थे, वहाँ एक स्वर्गदूत अचानक उनके सामने आया और उन्हें यह खुशखबरी दी कि उनके लिए एक उद्धारकर्ता पैदा हुआ है जो एक चरनी में पड़ा है।

Christmas Day Hindi: ईसा मसीह के जन्म

Christmas Day Hindi: चरवाहे वहां जाँच करने गए कि क्या यह सच है। उनके आश्चर्य करने के लिए, उन्होंने एक नवजात शिशु को मैरी और जोसेफ के साथ मैंगर में पड़ा पाया। इससे चरवाहों ने सर्वशक्तिमान की प्रशंसा की। उस दौरान, सितारों का अध्ययन करने वाले कई बुद्धिमान लोग पुराने लेखन से जानते थे कि जब एक महान राजा पैदा होगा तो एक नया सितारा आकाश में दिखाई देगा। जब यीशु का जन्म हुआ था तो आकाश में एक नया चमकीला तारा प्रकट हुआ था और दूर देशों में रहने वाले बुद्धिमान लोग जानते थे कि इसका क्या मतलब है। ईसाई धर्म और पवित्र बाइबिल के बारे में अधिक जानने के लिए, कृपया इस लेख को पढ़ें, इस लेख में, आपको ईसाई धर्म और पवित्र बाइबल के बारे में सभी जानकारी मिलेगी।

Also Read: संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा कैसे ले सकते हैं?

Christmas Day Hindi: क्या क्रिसमस मनाना चाहिए।

Christmas Day Hindi: विश्वव्यापी स्वीकार्यता के बावजूद, क्रिसमस दिवस समारोह (Christmas Day 2021) के लिए बहस करने के लिए अभी भी कुछ बिंदु हैं। सबसे पहली और महत्वपूर्ण बात यह है कि मसीह के जन्मदिन को मनाने के लिए बाइबल में कहीं भी उल्लेख नहीं किया गया है। कोई भी जन्मदिन मनाने वाले लोग आध्यात्मिक ज्ञान से रहित होते हैं। यिर्म

याह 20:14 में भी बाइबल यही बताती है, “स्रापित हो वह दिन जिसमें मैं उत्पन्न हुआ! जिस दिन मेरी माता ने मुझ को जन्म दिया वह धन्य न हो!

Christmas Day Hindi: क्या यीशु परमेश्वर है या परमेश्वर के पुत्र?

Christmas Day Hindi: जैसा कि ऊपर देखा गया है, स्वर्गदूत ने हमेशा यीशु को परमेश्वर के पुत्र के रूप में उल्लेख किया। हालाँकि, संपूर्ण ईसाई समुदाय पवित्र यीशु की ईश्वर के रूप में पूजा करता है जो पृथ्वी पर मानव जाति के पापों को क्षमा करने के लिए आया था। निम्नलिखित छंद से स्पष्ट होता है यीशु परमेश्वर के पुत्र थे।

पवित्र बाइबल स्पष्ट रूप से कहती है कि यीशु परमेश्वर के पुत्र थे

■ इब्रानी 1: 5, मत्ती 17: 5, मरकुस 1:11 और लूका 20:13 स्पष्ट रूप से इंगित करते हैं कि यीशु ईश्वर के पुत्र थे।

आप सभी से प्रार्थना है कि पूर्ण गुरु की वास्तविक जानकारी के लिए संत रामपाल जी महाराज एप्प डाउनलोड करें, सत्संग सुनें और नाम दीक्षा लेकर भक्ति करें और सतलोक चलें।

Also Read: गुड़ी पड़वा आज, जानें इस त्योहार का महत्व व इससे जुड़ी पौराणिक कथाएं

Leave a Reply

You May Also Like

Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा कैसे ले सकते हैं?

Table of Contents Hide Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: नामदीक्षा लेना…

Rishi Parashara : पाराशर ऋषि ने अपनी पुत्री के साथ किया संभोग

पाराशर ऋषि भगवान शिव के अनन्य उपासक थे। उन्हें अपनी मां से पता चला कि उनके पिता तथा भाइयों का राक्षसों ने वध कर दिया। उस समय पाराशर गर्भ में थे। उन्हें यह भी बताया गया कि यह सब विश्वामित्र के श्राप के कारण ही राक्षसों ने किया। तब तो वह आग बबूला हो उठे। अपने पिता तथा भाइयों के यूं किए वध का बदला लेने का निश्चय कर लिया। इसके लिए भगवान शिव से प्रार्थना कर आशीर्वाद भी मांग लिया।

Marne Ke Baad Kya Hota Hai: स्वर्ग के बाद इस लोक में जाती है आत्मा!

Table of Contents Hide Marne Ke Baad Kya Hota Hai : मौत…

Kalyug Ka Ant : कलयुग के अंत में क्या होगा?

Table of Contents Hide Kalyug Ka Ant: वर्तमान में कलयुग कितना बीत…