Delhi Pollution News

Delhi Air Pollution: पराली जलाने का मौसम खत्म होने के बाद भी दिल्ली में हवा की क्वालिटी दिन पर दिन बदतर ही होती जा रही है. कड़कड़ाती ठंड से राहत पाने के लिए लोग टहनियों और सूखी पत्तियों के अलावा कचरे को खुले में जलाने लगे हैं. जिसके कारण दिल्ली में प्रदूषण की समस्या यथावत बनी हुई है.

निर्माण और परिवहन गतिविधियां भी दिल्ली में वायु प्रदूषण को बढ़ाने का काम कर रही है. कई दिनों से प्रदूषण के बढ़ते स्तर को देखते हुए अब दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. इस फैसले के तहत वाहनों के लिए सख्त गाइडलाइंस जारी की गई हैं.

Delhi Air Pollution: दिल्ली सरकार ने खराब होती वायु गुणवत्ता के मद्देनजर मंगलवार से राष्ट्रीय राजधानी में बीएस-तीन पेट्रोल और बीएस-चार डीजल चार पहिया वाहनों के परिचालन पर अस्थायी प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है. दिल्ली की वायु गुणवत्ता सोमवार को प्रतिकूल मौसम संबंधी स्थितियों-शांत हवा और कम तापमान के चलते गंभीर श्रेणी में पहुंच गई.

प्रदूषण के मद्देनजर वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग (सीएक्यूएम) ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) से जुड़े इलाकों को अधिक सख्ती के साथ प्रदूषण रोधी उपायों को लागू करने का निर्देश दिया है.


परिवहन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘बीएस-तीन पेट्रोल और बीएस-चार डीजल वाहनों पर प्रतिबंध मंगलवार से लागू होगा, क्योंकि वायु गुणवत्ता गंभीर श्रेणी में पहुंच गई है. हम पर्यावरण विभाग के साथ स्थिति की निगरानी कर रहे हैं.’’Delhi Air Pollution

■ यह भी पढ़ें: राजस्थान बेरोजगारी भत्ता घर बैठे प्राप्त करें 4500 रुपये, यहां देखें संपूर्ण जानकारी

उन्होंने कहा, ‘‘फिलहाल शुक्रवार तक प्रतिबंध रहने की संभावना है. अगर हवा की गुणवत्ता में सुधार होता है, तो शुक्रवार से पहले भी प्रतिबंध हटाया जा सकता है.’’

 

Delhi Air Pollution:

राष्ट्रीय राजधानी का 24 घंटे का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) रविवार को 371 था, जो सोमवार को शाम चार बजे 434 पर चला गया. एक्यूआई को 201 और 300 के बीच ‘खराब’, 301 और 400 के बीच ‘बहुत खराब’ और 401 और 500 के बीच ‘गंभीर’ माना जाता है.

■ यह भी पढ़ें: Indian Railway: रेलवे ने टिकट बुकिंग में किए बड़े बदलाव, अब एजेंट का कब्जा खत्म

Delhi Air Pollution: सफर की भविष्यवाणी हुई सच

Delhi Air Pollution: प्रदूषण को लेकर वायु गुणवत्ता और मौसम पूर्वानुमान और अनुसंधान की प्रणाली (SAFAR) की भविष्यवाणी सच साबित हुई। हवा की अनुकूल गति और पराली जलाने की घटनाओं में गिरावट के कारण शनिवार की तुलना में दिल्ली-एनसीआर की हवा आज थोड़ी साफ हुई।

5 अक्टूबर को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 431 दर्ज किया गया, जो हवा की गुणवत्ता की ‘गंभीर’ श्रेणी है। नोएडा (यूपी) का एक्यूआई ‘गंभीर’ श्रेणी में 529 और धीरपुर (दिल्ली) के पास ‘गंभीर’ श्रेणी में 534 दर्ज किया गया।

Delhi Air Pollution: गुरुग्राम में जहरीली हवा से थोड़ी राहत

Delhi Air Pollution: रविवार को सुबह सात बजे गुरुग्राम में वायु प्रदूषण पीएम 2.5 का स्तर 327 दर्ज किया गया। हल्की हवा चलने से पीएम 2.5 का स्तर कम हुया है। शुक्रवार को पीएम 2.5 का स्तर 458 पहुंच गया था। शनिवार को पीएम 2.5 का स्तर 371 दर्ज हुया था।

Delhi Air Pollution: दिल्ली-नोएडा में स्कूल बंद

Delhi Air Pollution: दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के खतरनाक होते असर के चलते ग्रेप का चौथा चरण लागू है। राजधानी दिल्ली में कई प्रतिबंध लगा दिए गए हैं। दिल्ली सरकार के कार्यालय 50 प्रतिशत क्षमता से खुलेंगे और 50 प्रतिशत कर्मचारी वर्क फ्राम होम करेंगे। इसके अलावा पांच से आठ नवंबर तक प्राइमरी कक्षा वाले सभी स्कूलों को बंद रखने का फैसला लिया गया है। साथ ही पांचवीं से ऊपर की कक्षाओं की आउटडोर एक्टिविटी बंद रहेंगी। नोएडा में भी क्लास एक से आठवीं तक के छात्रों का स्कूल आना मना है। सभी के क्लासेस आनलाइन चल रही हैं।

■ यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में नर्सिंग ऑफिसर के 1564 पदों पर भर्ती, 1 feb अंतिम तिथि

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

Rishi Parashara: पाराशर ऋषि ने अपनी पुत्री के साथ किया….

पाराशर ऋषि भगवान शिव के अनन्य उपासक थे। उन्हें अपनी मां से पता चला कि उनके पिता तथा भाइयों का राक्षसों ने वध कर दिया। उस समय पाराशर गर्भ में थे। उन्हें यह भी बताया गया कि यह सब विश्वामित्र के श्राप के कारण ही राक्षसों ने किया। तब तो वह आग बबूला हो उठे। अपने पिता तथा भाइयों के यूं किए वध का बदला लेने का निश्चय कर लिया। इसके लिए भगवान शिव से प्रार्थना कर आशीर्वाद भी मांग लिया।

Mirabai Story in Hindi: मीरा बाई की जीवनी, मीरा बाई की मृत्यु कैसे हुई

Mirabai Story in Hindi: कृष्ण भक्ति में लीन रहने वाली मीराबाई को राजस्थान में सब जानते ही होंगे। आज हम जानेंगे कि मीराबाई का जन्म कब और कहां हुआ? {Mirabai Story in Hindi} मीराबाई के गुरु कौन थे? कृष्ण भक्ति से क्या लाभ मिला? मीराबाई ने अपने जीवन में बहुत संघर्ष किया। गुरु बनाना क्यों आवश्यक है? आइए जानते हैं।

Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा कैसे ले सकते हैं?

Table of Contents Hide Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: नामदीक्षा लेना…

Kamakhya Temple Mystery: जानिए कामाख्या मंदिर का गुप्त रहस्य

Table of Contents Hide Kamakhya Temple Mystery: कामाख्या मंदिर का इतिहास Kamakhya…