Makar Sankranti 2023: हिन्दू धर्म में मकर संक्रांति त्योहार का बहुत ही ज्यादा महत्व है. इस त्यौहार को देश के हर हिस्से में मनाया जाता है. इस दिन लोग पवित्र नदियों में स्नान करते है. ऐसी मान्यता है कि मकर संक्रांति के दिन ही सूर्य धनु राशि से बाहर निकलकर मकर राशि में प्रवेश करता है. हिंदू धर्म में इस त्यौहार बहुत महत्व है. इस लोग खिचड़ी के त्यौहार के नाम से भी जानते हैं. यह त्यौहार अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार हर साल 14 या 15 जनवरी को पड़ता है. आइए जानते हैं इस साल किस दिन है मकर संक्राति का त्यौहार और क्या है महत्व?

Makar Sankranti 2023:
Makar Sankranti

Makar Sankranti 2023: कब है मकर संक्रांति?


Makar Sankranti 2023 धार्मिक पंचाग के अनुसार 14 जनवरी 2023 को रात के 8 बजकर 14 मिनट पर सूर्य मकर राशि में प्रवेश करेगा. ऐसे में उदया तिथि के अनुसार मकर संक्रांति 15 जनवरी को मनाई जाएगी. मकर संक्रांति के त्यौहार के अवसर पर सूर्य को अर्ध देना काफी शुभ होता है. अगर आप सच में शास्त्र अनुसार साधना करना चाहते हैं तो संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा लीजिए. शास्त्र अनुसार भक्ति करने से किसी भी तरह के लाभ होते हैं नहीं तो व्यर्थ साधना है.

Makar Sankranti 2023 मकर संक्रांति का महत्व


Makar Sankranti 2023 मकर संक्रांति का हिन्दू धर्म में काफी महत्व मान जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन दान करने पर कई गुना अधिक फल प्राप्त होता है. बता दें कि मकर संक्रांति के ही दिन सूर्य का अपने पुत्र शनि से मिलन होता है. इसी दिन शुक्र ग्रह का भी उदय होता है. इसलिए ये दिन काफी शुभ माना जाता है. इस दिन पानी में काला तिल और गंगा जल मिलाकर स्नान काफी शुभ होता है. ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से सूर्य की कृपा होती है और आपके जीवन के सभी ग्रह दोष दूर हो जाते है.


मकर संक्रांति का वैज्ञानिक महत्व


Makar Sankranti 2023 मकर संक्रांति का जितना धार्मिक महत्व है, उतना ही अधिक वैज्ञानिक महत्व भी है. मकर संक्रांति के दिन भगवान सूर्य दक्षिणायण से उत्तरायण होते हैं. सर्दियों के सीजन में रात लंबी और दिन छोटा होता है. लेकिन इस मकर संक्रांति के दिन से रात छोटी और दिन बड़ा होने लगता है. ऐसी मान्यता है कि इस दिन से ठंड कम होने की शुरुआत हो जाता है.

Makar Sankranti 2023: दान करने का सही समय

दान करने का सही समय

Makar Sankranti 2023: ज्योतिष और पंडित जी दान करने का समय बताते हैं लेकिन आप दान कभी भी कर सकते हो बस उचित व्यक्ति को दान करना चाहिए आपका दान किया हुआ पैसा या कोई भी वस्तु का गलत उपयोग नहीं हो तभी आपका दान सफल होता है।

‘दान’ किसे करना चाहिए? What is Supatra-daan?

Delhi Pollution News: दिल्ली की जहरीली होती हवा पर सरकार का बड़ा फैसला, जानें गाइडलाइंस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

Mirabai Story in Hindi: मीरा बाई की जीवनी, मीरा बाई की मृत्यु कैसे हुई

Mirabai Story in Hindi: कृष्ण भक्ति में लीन रहने वाली मीराबाई को राजस्थान में सब जानते ही होंगे। आज हम जानेंगे कि मीराबाई का जन्म कब और कहां हुआ? {Mirabai Story in Hindi} मीराबाई के गुरु कौन थे? कृष्ण भक्ति से क्या लाभ मिला? मीराबाई ने अपने जीवन में बहुत संघर्ष किया। गुरु बनाना क्यों आवश्यक है? आइए जानते हैं।

Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा कैसे ले सकते हैं?

Table of Contents Hide Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: नामदीक्षा लेना…

Rishi Parashara: पाराशर ऋषि ने अपनी पुत्री के साथ किया….

पाराशर ऋषि भगवान शिव के अनन्य उपासक थे। उन्हें अपनी मां से पता चला कि उनके पिता तथा भाइयों का राक्षसों ने वध कर दिया। उस समय पाराशर गर्भ में थे। उन्हें यह भी बताया गया कि यह सब विश्वामित्र के श्राप के कारण ही राक्षसों ने किया। तब तो वह आग बबूला हो उठे। अपने पिता तथा भाइयों के यूं किए वध का बदला लेने का निश्चय कर लिया। इसके लिए भगवान शिव से प्रार्थना कर आशीर्वाद भी मांग लिया।

National Daughters Day: राष्ट्रीय बेटी दिवस कब और क्यों मनाया जाता है? क्या है इसका इतिहास, जानिए विशेष बातें

Table of Contents Hide National Daughters Day: राष्ट्रीय बेटी दिवस कब और…