mother-day-2021
mother-day-2021

Mother’s Day मां हमें बहुत कुछ सिखाती है हमेशा हमारे साथ रहती है हम से प्रेम करती है हमें मजबूत बनाती है। जिंदगी जीना और समस्याओं से लड़ना सिखाती है संघर्ष करना सिखाती है। मां की ममता को सेलिब्रेट करने के लिए हर साल मई के दूसरे सप्ताह के संडे को मदर्स डे मनाया जाता है यानी 9 मई के दिन Mother’s Day मनाया जाएगा।

सभी माताओं के प्यार का सम्मान करने और एक माँ द्वारा अपने बच्चे के लिए सब कुछ करने के लिए श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए, हर साल मातृ दिवस मनाया जाता है। Mother’s Day मां एक ऐसा शब्द है जिसे सुनते ही मन में कई तरह के इमोशंस उमड़ पड़ते हैं।

Mother’s Day मां की ममता को किसी भी तरह तो जा नहीं जा सकता। 1 दिन स्पेशल बनाया गया है ताकि इस रिश्ते को और मजबूत किया जाए और मां पर विशेष ध्यान दिया जाए। उनकी खुशी का ख्याल किया जाए।

Mother’s Day मदर्स डे का महत्व

Mother's Day 2021
Mother’s Day 2021


Mother’s Day मदर्स डे का महत्व अपने आप में बहुत खास है इसके पीछे एक कहानी जुड़ी हुई है। वह हम आपको बताते हैं- अमेरिका में अना जाविर्स नाम की एक महिला थी। वह अपनी मां की मृत्यु से पहले खुशियों और इच्छाओं को सेलिब्रेट करना चाहती थी।

उन्होंने अपनी मां की मृत्यु के 3 साल बाद 1908 एक स्मारक बनाया। वेस्ट वर्जीनिया के सेंट एंडयूज मेथोडेसट चर्च में एक स्मारक बनाया गया।

तब से अमेरिका में मदर्स डे को छुट्टी के रूप में मान्यता देने के लिए एक अभियान शुरू किया गया आपको बता दें कि मई के दूसरे रविवार को मदर्स डे के रूप में मनाया जाने वाला यह 1941 में एक बिल पास किया गया था उसके बाद कई देशों में मदर्स डे मनाया जाने लगा।

Read Also: World Press Freedom Day

Mother’s Day: मदर्स डे को कैसे बनाएं खास

Happy Mother’s Day 2021 in India | Mother’s day special drawing | Mothers Day Drawing Ideas


वैसे तो आजकल के समय में रोज आप अपनी जिंदगी में उलझे रहते हैं लेकिन साल में 1 दिन अपनी मां के लिए निकालना बहुत अच्छी बात है मदर्स डे पर उन्हें खास फील करवाना है अब सोचिए कि ऐसा क्या करेंगे आपकी मदद को स्पेशल फील हो आइए कुछ बताते हैं।-

मां के साथ वक्त बिताएं

इस दिन आप अपने सभी कामों को छोड़कर मां के साथ कुछ वक्त बिताएं पुरानी फोटोस देखें बचपन की फोटो देखें और खिल खिलाए मां को कुछ बनाकर खिलाएं जो उन्हें अच्छा लगता है वह उपहार दे।

Read Also: इरीटेटिंग लोगों से छिपाएं अपना लास्ट सीन

मां के लिए कुछ खास खाना बनाएं

मां तो हमेशा ही हमारे लिए खाना बनाती है लेकिन मदर्स डे पर आप अपनी मां के लिए कुछ खास बनाएं जिससे उन्हें बहुत खुशी होगी।

अपने हाथों से स्पेशल कार्ड बनाएं

बाजार से तो हर कोई कार्ड ला सकता है लेकिन कभी किसी को कुछ खास फील करवाना हो तो अपने हाथों से स्पेशल कार्ड बनाएं। शायद सिंपल होगा लेकिन उसमें अपनी भावनाओं को लिखें इससे सामने वाला बहुत इंप्रेस होगा।

“माताएं कभी भी सेवानिवृत्त नहीं होतीं,

हा सच है ना यह, चाहे उनके बच्चे कितने भी बूढ़े क्यों न हों, वह हमेशा एक माँ ही होती हैं, अपने बच्चों को किसी भी तरह से प्रोत्साहित करने और उनकी मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहती हैं!” -कैथरीन पल्सीफेर

मदर्स डे अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग तारीखों में मनाया जाता है।

ब्रिटेन में, मदर डे मार्च के चौथे रविवार को क्रिश्चियन मदरिंग संडे को मदर चर्च की याद में मनाया जाता है।

ग्रीस में, मदर्स डे 2 फरवरी को मनाया जाता है, इस दिन को मंदिर में यीशु मसीह की प्रस्तुति के पूर्वी रूढ़िवादी उत्सव के साथ जोड़ा जाता है।

हालाँकि, 1912 में, वेस्ट वर्जीनिया के गवर्नर ने मदर्स डे की घोषणा की और 1913 में पेंसिल्वेनिया के गवर्नर ने भी ऐसा ही किया। 1914 में अमेरिका में, मदर्स डे एक आधिकारिक अवकाश बन गया जब राष्ट्रपति वुडरो विल्सन ने मातृत्व का सम्मान देने के लिए मई में दूसरे रविवार को एक दिन के रूप में घोषित किया।

Also Read: 7 अप्रैल को क्यों मनाया जाता है विश्व स्वास्थ्य दिवस? जानिए इतिहास और उद्देश्य

2 comments

Leave a Reply

You May Also Like

Mirabai Story in Hindi: मीरा बाई की जीवनी, मीरा बाई की मृत्यु कैसे हुई

Mirabai Story in Hindi: कृष्ण भक्ति में लीन रहने वाली मीराबाई को राजस्थान में सब जानते ही होंगे। आज हम जानेंगे कि मीराबाई का जन्म कब और कहां हुआ? {Mirabai Story in Hindi} मीराबाई के गुरु कौन थे? कृष्ण भक्ति से क्या लाभ मिला? मीराबाई ने अपने जीवन में बहुत संघर्ष किया। गुरु बनाना क्यों आवश्यक है? आइए जानते हैं।

Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा कैसे ले सकते हैं?

Table of Contents Hide Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: नामदीक्षा लेना…

भगवान कौन है?[Bhagwan Kaun Hai]: संत रामपाल जी भगवान है।

Table of Contents Hide भगवान कौन है? दो शक्तियां- सत्य पुरुष और…

Rishi Parashara : पाराशर ऋषि ने अपनी पुत्री के साथ किया संभोग

पाराशर ऋषि भगवान शिव के अनन्य उपासक थे। उन्हें अपनी मां से पता चला कि उनके पिता तथा भाइयों का राक्षसों ने वध कर दिया। उस समय पाराशर गर्भ में थे। उन्हें यह भी बताया गया कि यह सब विश्वामित्र के श्राप के कारण ही राक्षसों ने किया। तब तो वह आग बबूला हो उठे। अपने पिता तथा भाइयों के यूं किए वध का बदला लेने का निश्चय कर लिया। इसके लिए भगवान शिव से प्रार्थना कर आशीर्वाद भी मांग लिया।