Overripe-Banana-side-effects

Overripe Banana side effects: केले में खूब सारा पोटेशियम, फोलेट, कार्ब और ट्रिप्टोफैन होता है इसी वजह से ही कि फलों में इसे सबसे ज्यादा सेहतमंद माना जाता है। पोषक तत्वों से भरपूर होता है लेकिन इसके बावजूद कुछ खास तरह के केले सेहत के लिए अच्छे नहीं माने जाते हैं।

केले के पकने की एक प्रक्रिया होती है और इसी के तहत ये पता लगाया जाता है कि हमारी सेहत के लिए कौन सा केला अच्छा और कौन सा बुरा है।

किस तरह के केले को खाने से हमें बचना चाहिए जो हमारी सेहत को नुकसानदायक हो सकता है।

ज्यादा पके हुए केले-

Overripe Banana side effects: हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार ज्यादा पके केले सबसे बेकार होते हैं। इनके छिलकों पर आए भूरे रंग धब्बों से आप इनकी पहचान कर सकते हैं। ज्यादा पकने पर इनके हेल्दी स्टार्च कम होने लगते हैं और ये शुगर में बदल जाते हैं। भूरे रंग के ज्यादा पके केले में शुगर की मात्रा 17.4 होती है जबकि पीले केले में इसकी मात्रा 14.4 ग्राम होती है।
पीले के लिए स्वास्थ्य के लिए अच्छे होते हैं यह खाने चाहिए यह हमें स्वस्थ रखते हैं।

Overripe Banana side effects

कम फाइबर वाले केले-

Overripe Banana side effects: जरूरत से ज्यादा पके केलों में फाइबर की मात्रा भी कम होती है। इनमें सिर्फ 1.9 ग्राम फाइबर पाया जाता है

जबकि पीले केले में इसकी मात्रा 3.1 ग्राम होती है। इतना ही नहीं बहुत पके केले में ना सिर्फ फाइबर कम होता है बल्कि इनमें विटामिन A, B6 और विटामिन K भी कम मात्रा में पाया जाता है। ब्लड ग्लूकोज स्तर बढ़ाने के लिए पके केले खाए जा सकते हैं।

पीले केले-

Overripe Banana side effects: आमतौर पर पीले रंग के केले सेहत के लिए अच्छे माने जाते हैं। हरे और भूरे रंग के केले की तुलना पीले रंग के केले ज्यादा सुरक्षित माना गया है। ये ना सिर्फ खाने में स्वादिष्ट होते हैं बल्कि इनमें सभी तरह के पोषक तत्व वैसे ही मौजूद होते हैं।

■ Also Read: Khira Khane ke Fayde: गर्मियों में खीरा खाना हैं बेहद जरूरी!

हरे केले-

Overripe Banana side effects: हरे केले या बिल्कुल कम पके केले सबसे अच्छे माने जाते हैं क्योंकि इनमें शुगर की मात्रा बहुत और रेजिस्टेंट स्टार्च की मात्रा ज्यादा होती है। इसे खाने से जल्दी भूख नहीं लगती है और आप बार-बार खाने से बच जाते हैं।

खासतौर से वेट लॉस के लिए हरे केले सबसे अच्छे माने जाते हैं। इसमें शॉर्ट-चेन फैटी एसिड (SCFA) होता है जो आंतों को स्वस्थ रखता है। हालांकि हरे केले काफी सख्त होते है और इन्हें खाना आसान नहीं होता है इसलिए आप दूसरे तरीके से डाइट में शामिल कर सकते हैं जैसे कि हरे केले का आटा बनाकर या फिर इसकी स्मूदी बनाकर आप पी सकते हैं। यह आपको बहुत स्वादिष्ट भी लगेगी।

■ Also Read: 7 Benifits of Lemon : नींबू पानी पीने के स्वास्थ्य लाभ

■ Also Read: Best Weight Loss Drinks : ये पांच ड्रिंक्स हैं मोटापा कम करने में फायदेमंद


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

Rishi Parashara : पाराशर ऋषि ने अपनी पुत्री के साथ किया संभोग

पाराशर ऋषि भगवान शिव के अनन्य उपासक थे। उन्हें अपनी मां से पता चला कि उनके पिता तथा भाइयों का राक्षसों ने वध कर दिया। उस समय पाराशर गर्भ में थे। उन्हें यह भी बताया गया कि यह सब विश्वामित्र के श्राप के कारण ही राक्षसों ने किया। तब तो वह आग बबूला हो उठे। अपने पिता तथा भाइयों के यूं किए वध का बदला लेने का निश्चय कर लिया। इसके लिए भगवान शिव से प्रार्थना कर आशीर्वाद भी मांग लिया।

Mirabai Story in Hindi: मीरा बाई की जीवनी, मीरा बाई की मृत्यु कैसे हुई

Mirabai Story in Hindi: कृष्ण भक्ति में लीन रहने वाली मीराबाई को राजस्थान में सब जानते ही होंगे। आज हम जानेंगे कि मीराबाई का जन्म कब और कहां हुआ? {Mirabai Story in Hindi} मीराबाई के गुरु कौन थे? कृष्ण भक्ति से क्या लाभ मिला? मीराबाई ने अपने जीवन में बहुत संघर्ष किया। गुरु बनाना क्यों आवश्यक है? आइए जानते हैं।

Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा कैसे ले सकते हैं?

Table of Contents Hide Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: नामदीक्षा लेना…

Kamakhya Temple Mystery: कामाख्या मंदिर का गुप्त रहस्य

Table of Contents Hide Kamakhya Temple Mystery: कामाख्या मंदिर का इतिहास Kamakhya…