ram-rahim-latest-news

Ram Rahim Latest News: पंजाब (Punjab) के फरीदकोट (faridkot) में श्री गुरू ग्रंथ साहिब (Sri Guru Granth Sahib) चोरी होने के मामले की जांच कर रही SIT आज फिर डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम से पूछताछ करेगी. इसके लिए टीम रोहतक के सुनारिया जेल जाएगी. वहीं, इससे पहले भी डेरा सच्चा सौदा प्रमुख से जेल में पूछताछ हो चुकी है. गौरतलब है कि SIT मामले की जांच तेजी से कर रही है, क्योंकि उन पर चुनाव से पहले पहले इसे नतीजे पर पहुंचाने का दबाव है.

राम रहीम से SIT ने बीते 9 नवंबर को भी पूछताछ की थी. इस दौरान उसने कहा था कि उनका काम सतसंग करने का था, फैसले डेरा की प्रबंधक कमेटी लेती थी. इसी मामलें को लेकर SIT ने डेरा प्रबंधक विपासना इंसां और पी आर नैन को समन दिए थे. लेकिन वे हाई कोर्ट चले गए. वहीं, हाई कोर्ट से आदेश के बाद SIT की टीम सिरसा में पीआर नैन से पूछताछ भी की थी. वहीं, अब इसके बाद फिर से डेरा प्रमुख से पूछताछ हो रही है.

Ram Rahim Latest News: फिर सवालों की लिस्ट के साथ डेरे पहुंची SIT

करीब छह घंटे तक टीम के सदस्य डेरा प्रमुख से पूछताछ करने के लिए जेल में रहे। बताया जा रहा है कि डेरा प्रमुख बेअदबी की घटनाओं में उसकी संलिप्तता के संबंध में पूछताछ के दौरान चुप्पी ही साधे रहा। बिना कोई बयान दिया बाबा अपने आप को बचाते रहे।

बड़ी बात यह रही आज सुबह सुरक्षा के चलते एसआईटी के चीफ आईजी सुरिंदर परमार की गाड़ी सहित समेत तमाम गाड़ियां रोकी गई थी, जिसमें आईजी का आई कार्ड तक चेक किया गया था। आईजी के साथ दो गाड़ियां सीआईए की अतिरिक्त आई थी, जबकि रोहतक पुलिस के पास पांच ही गाड़ियों के नंबर थे। उन दो गाड़ियों को नहीं जाने दिया था।

जिसके बाद आईजी ने रोहतक एसपी उदय सिंह मीणा से फोन पर बातचीत कर उन दो गाड़ियों को अंदर जाने की परमिशन ली। इस परमिशन के बाद ही सभी गाड़ियां जेल के अंदर गई।

SIT के सीनियर अधिकारी ने बताया कि

बता दें कि SIT राम रहीम और प्रबंधकों द्वारा दिए गए जवाबों से खुश नहीं है. यही कारण है कि अभी और भी पूछताछ की जानी है. वहीं, SIT के सीनियर अधिकारी ने बताया कि जब तक उन्हें अपने सवालों के सही जवाब नहीं मिल जाते, पूछताछ इसी तरह चलती रहेगी. कई दौर की पूछताछ हो सकती है. ऐसे में SIT ये स्पष्ट करना चाहती है कि फरीदकोट में हुई बेअदबी में डेरा प्रबंधकों की कोई भूमिका तो नहीं. फिलहाल राम रहीम समेत डेरे के तमाम लोग बेअदबी की घटना में हाथ होने से इनकार कर चुके हैं.

साल 2015 का हैं गुरु ग्रंथ साहिब चोरी का मामला

गौरतलब है कि बेअदबी का मामला 6 साल पुराना है. जहां बीते 1 जुलाई 2015 को फरीदकोट जिले में बरगाड़ी से 5 किलोमीटर दूर स्थित गांव बुर्ज जवाहर सिंह वाला के गुरुद्वारे से श्री गुरु ग्रंथ साहिब का पावन स्वरूप चोरी हो गया था. ऐसे में 24 सितंबर 2015 को बरगाड़ी में गुरुद्वारे के पास हाथ से लिखे 2 पोस्टर लगे मिले. उन पर आरोप है कि पंजाबी भाषा में लिखे इन पोस्टरों में अभद्र भाषा इस्तेमाल की गई और चोरी में डेरा सच्चा सौदा का हाथ होने की बात भी लिखी गई. ऐसे मे 12 अक्टूबर 2015 को बुर्ज जवाहर सिंहवाला की गलियों में पावन स्वरूप के अंग बिखरे मिले. इससे नाराज सिखों ने विरोध प्रदर्शन किया, जिसने उग्र रूप ले लिया था. इस दौरान हुई पुलिस की हिंसक झड़प में 2 लोगों की मौत हो गई थी.

CBI समेत 3 SIT की टीमें कर चुकी हैं जांच

वहीं, बेअदबी और गोलीकांड के इस मामले में साल 2015 में 3 अलग-अलग FIR दर्ज की गई थी. इनमें 5 डेरा प्रेमियों को गिरफ्तार किया गया, जोकि अब जमानत पर चल रहे हैं. वहीं, डेरा सच्चा सौदा की नेशनल कमेटी के 3 सदस्यों के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किए गए है. इस बारे में भी राम रहीम से पूछताछ की जाएगी. वहीं, बेअदबी का मामला साल 2017 के पंजाब विधानसभा चुनाव में सबसे बड़ा मुद्दा बन गया था. हालांकि अब तक इस मामले की जांच CBI के अलावा पंजाब पुलिस की 3 अलग-अलग SIT टीमें जांच कर चुकी हैं, लेकिन बेअदबी करने वाले दोषियों के नाम सामने नहीं आ पाए हैं.

ये भी पढ़ें: विश्व हिन्दू परिषद, और बजरंग दल के गुंडों ने की सत्संग में की फ़ियरिंग, महिलाओं के साथ छेड़छाड़

ये भी पढ़ें: Sant Rampal Ji Maharaj Namdiksha: संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा कैसे ले सकते हैं?

Leave a Reply

You May Also Like

Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा कैसे ले सकते हैं?

Table of Contents Hide Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: नामदीक्षा लेना…

Marne Ke Baad Kya Hota Hai: स्वर्ग के बाद इस लोक में जाती है आत्मा!

Table of Contents Hide Marne Ke Baad Kya Hota Hai : मौत…

Rishi Parashara : पाराशर ऋषि ने अपनी पुत्री के साथ किया संभोग

पाराशर ऋषि भगवान शिव के अनन्य उपासक थे। उन्हें अपनी मां से पता चला कि उनके पिता तथा भाइयों का राक्षसों ने वध कर दिया। उस समय पाराशर गर्भ में थे। उन्हें यह भी बताया गया कि यह सब विश्वामित्र के श्राप के कारण ही राक्षसों ने किया। तब तो वह आग बबूला हो उठे। अपने पिता तथा भाइयों के यूं किए वध का बदला लेने का निश्चय कर लिया। इसके लिए भगवान शिव से प्रार्थना कर आशीर्वाद भी मांग लिया।

Kalyug Ka Ant : कलयुग के अंत में क्या होगा?

Table of Contents Hide Kalyug Ka Ant: वर्तमान में कलयुग कितना बीत…