winter-season-google-doodle
winter-season-google-doodle

Winter Season Google Doodle: सर्च पॉइंट Google ने विंटर सीजन 2021 की शुरुआत को लेकर एक बेहतरीन Doodle बनाया है। Google Doodle वर्ष की सबसे लंबी रात का जश्न मनाने के लिए बनाया गया है। आज का दिन Winter Solstice को मार्क करता है जिसे December solstice भी कहा जाता है। यह तब होता है जब सूर्य मकर रेखा पृथ्वी के सबसे पास होती है।

जिस तरह Winter Solstice सर्दियों में होता है ठीक उसी तरह गर्मियों में Summer Solstice भी होता है। यह जून की 21 तारीख के आस-पास हर साल आता है। इस दिन, सबसे लंबा होता है और रात सबसे छोटी होती है।

Winter Season Google Doodle: Winter Solstice की बात करें तो इस घटना के कारण दिन का समय कम होने के कारण दिन छोटा हो जाता है और रात साल की सबसे लंबी रात बन जाती है। यह हर वर्ष दिसंबर में 21 और 22 तारीख के बीच होता है। कई देश इस दिन को मनाते हैं जिसमें अमेरिका, भारत, ब्रिटेन, चीन, रूस और कनाडा आदि शामिल हैं।

Doodle में खास क्या है:

Winter Season की सारी डिटेल्स मिल जाएंगी। साथ ही गूगल का Winter Season डूडल के लेख भी दिखाई देने लग जाएंगे।

Google Doodle: गूगल मना रहा है Pizza Day आज

Winter Season Google Doodle: जो डूडल आज बनाया गया है यह ठीक वैसा ही है जो 21 जून को Google द्वारा शेयर किया गया था। इसका कैप्शन “जैसे ही पृथ्वी अपनी धुरी पर झुकती है, दक्षिणी गोलार्ध (Southern Hemisphere) में कई लोग अगले कुछ महीनों के लिए चिल आउट होने की तैयारी करने लगते हैं।

कैटरीना कैफ और विक्की कौशल की शादी की फोटो वायरल
बजरंग दल के गुंडों ने की सत्संग में की फ़ियरिंग, महिलाओं के साथ छेड़छाड़

Winter Season Google Doodle: उत्तरी गोलार्ध (Northern Hemisphere) में सर्दी का मौसम आज से शुरू होने जा रहा है और 20 मार्च, 2022 तक चलेगा। Winter Solstice के दौरान ही सबसे लंबी रात मिलती है।

Leave a Reply

You May Also Like

Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा कैसे ले सकते हैं?

Table of Contents Hide Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: नामदीक्षा लेना…

Marne Ke Baad Kya Hota Hai: स्वर्ग के बाद इस लोक में जाती है आत्मा!

Table of Contents Hide Marne Ke Baad Kya Hota Hai : मौत…

Rishi Parashara : पाराशर ऋषि ने अपनी पुत्री के साथ किया संभोग

पाराशर ऋषि भगवान शिव के अनन्य उपासक थे। उन्हें अपनी मां से पता चला कि उनके पिता तथा भाइयों का राक्षसों ने वध कर दिया। उस समय पाराशर गर्भ में थे। उन्हें यह भी बताया गया कि यह सब विश्वामित्र के श्राप के कारण ही राक्षसों ने किया। तब तो वह आग बबूला हो उठे। अपने पिता तथा भाइयों के यूं किए वध का बदला लेने का निश्चय कर लिया। इसके लिए भगवान शिव से प्रार्थना कर आशीर्वाद भी मांग लिया।

Kalyug Ka Ant : कलयुग के अंत में क्या होगा?

Table of Contents Hide Kalyug Ka Ant: वर्तमान में कलयुग कितना बीत…