International-brothers-day
International brothers day

International brothers day दोस्तों आज हम आपको इंटरनेशनल ब्रदर्स डे पर जानकारी देंगे कि भारत में या फिर यूं कहे है कि इंटरनेशनल स्तर पर एक परिवार में दो भाइयों की क्या इज्जत होती है कैसे उनका रहना होता है क्या उनके बीच में प्यार होता है।

International brothers day क्यों मनाया जाता है?

International brothers day ब्रदर्स डे की शुरुआत 2005 में अमेरिका से हुई। जो अब पूरे विश्व में मनाया जाने लगा है।

International Brothers Day: का मतलब क्या होता है।

International brothers dayआम भाषा में बताया जाता है कि बचपन से लेकर जवानी तक दो भाइयों के बीच इतना गहरा अटूट प्यार होता है कि अगर छोटे भाई को कोई कुछ कह दे तो बड़ा भाई उसको मारने को लग जाए, दोस्तों दो भाइयों के बीच में इतना गहरा प्यार होता है

बड़ा भाई अपने छोटे भाई को कभी दुखी नहीं देख सकता और छोटा भाई कभी भी अपने बड़े भाई को दुखी नहीं देख सकता। हर संभव किसी भी प्रकार की कोई मदद करनी हो तो दोनों एक दूसरे की मदद के लिए तत्पर रहते हैं।

यह भी पढे : पूर्व पीएम के हत्या कांड की पूरी पड़ताल, कब और कैसे हुई यह हत्या

International Brothers Day: दो भाइयों की कहानी

आज हम आपको एक ऐसे परिवार की कहानी सुनाते हैं जिससे आपको पता चलेगा कि भाइयों के बीच का प्यार कैसा होता है और कब तक वह प्यार कायम रहता है, यह स्टोरी राजस्थान के एक कस्बे की है जहां पर चार भाई का परिवार है,

सबसे बड़ा भाई जो घर परिवार की जिम्मेदारी के कारण अपनी पढ़ाई छोड़ चुका होता है और वह बहुत ही नरम दिल का है उसने अपने छोटे तीनो भाई के लिए बहुत मेहनत की इनकी मां बीमार होने के कारण घर का काम भी इन्हीं को करना होता था।

बचपन में जिम्मेदारी का अहसास होने के कारण भाई ने 13 साल की उम्र में काम करना शुरू कर दिया और एक बनिया की दुकान पर वह काम करता था।

यह भी पढे : International Tea Day

International Brothers Day: आपको बता दें कि यह कहानी स्वयं लेखक के परिवार की थी इसमें लिख खुद बता रहा है कि हफ्ते में काम करने के बाद जब रविवार का दिन आता था तो वह भाई अपने छोटे भाइयों के कपड़े तक धोता था घर का काम करता था और भाइयों को बड़े प्यार से रखता था।

कभी-कभी गुस्से में मार देना भी जायज था लेकिन मारने के बाद अपने छोटे भाइयों को मनाना भी बड़े भाई को आता था।

International Brothers Day: एक समय सबसे छोटे भाई ने हार्डवेयर का काम करना सीखा तो बड़ा भाई दोपहर का खाना पहुंचाने अपने छोटे भाई के पास जाता था उसको अच्छा नहीं लगता था कि मेरा छोटा भाई इतनी धूप में, गर्मी में या काम कर रहा है लेकिन छोटे भाई की जिद के कारण वह काम कर रहा था।

कुछ कारण ऐसे बने, उस परिवार में सबसे बड़े भाई को अलग होना पड़ा और मैं प्यार धीरे धीरे कम होता गया लेकिन जब बड़ा भाई अलग हो रहा था तो छोटे भाई ने भी उसकी मजबूरी को समझा कि परिस्थिति ही ऐसी है कि उसको अलग होना पड़ेगा।

यह भी पढे : Read in Deatils about Happy Brothers day on SA News Channel

समय बीतता गया और बड़े भाई ने सबसे छोटे भाई के लिए डायरी में एक बात लिखी कि 

भाई तू आगे बढ़ कर हमेशा नाम कमाएं मेरे दिल से यही तमन्ना है – तुम्हारा भाई ललित।

दोस्तों परिस्थिति चाहे कैसी भी हो लेकिन मेरा मानना है कि हमें कभी भी परिस्थितियों को लेकर के अपने रिश्तो में तकरार पैदा नहीं करनी चाहिए समय चला जाता है, लेकिन कुछ बातें जो दिल को झकझोर देती है जिनके कारण रिश्ते टूट जाते हैं हमें ऐसा नहीं करना चाहिए।

दोस्तों भाई दिवस पर आपको यह हमारी कहानी कैसी लगी इसके बारे में कमेंट करके जरूर बताएं।

Leave a Reply

You May Also Like

Mirabai Story in Hindi: मीरा बाई की जीवनी, मीरा बाई की मृत्यु कैसे हुई

Mirabai Story in Hindi: कृष्ण भक्ति में लीन रहने वाली मीराबाई को राजस्थान में सब जानते ही होंगे। आज हम जानेंगे कि मीराबाई का जन्म कब और कहां हुआ? {Mirabai Story in Hindi} मीराबाई के गुरु कौन थे? कृष्ण भक्ति से क्या लाभ मिला? मीराबाई ने अपने जीवन में बहुत संघर्ष किया। गुरु बनाना क्यों आवश्यक है? आइए जानते हैं।

Rishi Parashara : पाराशर ऋषि ने अपनी पुत्री के साथ किया संभोग

पाराशर ऋषि भगवान शिव के अनन्य उपासक थे। उन्हें अपनी मां से पता चला कि उनके पिता तथा भाइयों का राक्षसों ने वध कर दिया। उस समय पाराशर गर्भ में थे। उन्हें यह भी बताया गया कि यह सब विश्वामित्र के श्राप के कारण ही राक्षसों ने किया। तब तो वह आग बबूला हो उठे। अपने पिता तथा भाइयों के यूं किए वध का बदला लेने का निश्चय कर लिया। इसके लिए भगवान शिव से प्रार्थना कर आशीर्वाद भी मांग लिया।

World Health Day: 7 अप्रैल को क्यों मनाया जाता है विश्व स्वास्थ्य दिवस? जानिए इतिहास और उद्देश्य

World Health Day: वर्ल्ड हेल्थ डे यानी विश्व स्वास्थ्य दिवस जो आज…

Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा कैसे ले सकते हैं?

Table of Contents Hide Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: नामदीक्षा लेना…