World Freedom Press Day 2021
World Freedom Press Day 2021

World Freedom Press Day: हर साल, विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस दुनिया भर में मनाया जाता है। विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस एक विशेष दिन है जो पत्रकारिता की भावना का प्रतीक है और जश्न मनाता है और उन समर्पित पत्रकारों का आभार व्यक्त करता है जिन्होंने दुनिया के सच को जनता के सामने उजागर करते हुए अपना जीवन बिताया है। हर साल विश्व प्रेस दिवस के लिए एक विशिष्ट विषय चुना जाता है। World Freedom Press Day थीम, इतिहास और महत्व के बारे में अधिक जानने के लिए पढ़ें।

World Freedom Press Day Theme


World Freedom Press Day यूनेस्को की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार, World Freedom Press Day का विषय ‘सूचना ए पब्लिक गुड’ है। यूनेस्को के अनुसार, यह वर्ष थीम एक सार्वजनिक भलाई के रूप में जानकारी को पोषित करने और पत्रकारिता को मजबूत करने के लिए सामग्री के उत्पादन, वितरण और स्वागत में क्या किया जा सकता है,

इसकी खोज की पुष्टि करने और पारदर्शिता और सशक्तिकरण को आगे बढ़ाने के लिए एक कॉल के रूप में कार्य करता है। पीछे – पीछे। यूनेस्को का मानना ​​है कि यह थीम दुनिया भर के सभी देशों के लिए जरूरी प्रासंगिक है। यह बदलती संचार प्रणाली को पहचानता है जो हमारे स्वास्थ्य, मानव अधिकारों, लोकतंत्रों और सतत विकास को प्रभावित करता है।

READ | मीडिया को क्या करना चाहिए? 

प्रेस की स्वतंत्रता? 

संविधान, अनुच्छेद 19 के तहत वाक् एवं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की गारंटी देता है, जो वाक् स्वतंत्रता इत्यादि के संबंध में कुछ अधिकारों के संरक्षण से संबंधित है। प्रेस की स्वतंत्रता को भारतीय कानूनी प्रणाली द्वारा स्पष्ट रूप से संरक्षित नहीं किया गया है, लेकिन यह संविधान के अनुच्छेद 19 (1) (क) के तहत संरक्षित है, जिसमें कहा गया है –

“सभी नागरिकों को वाक् एवं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार होगा”।

वर्ष 1950 में रोमेश थापर बनाम मद्रास राज्य मामले में सर्वोच्च न्यायालय ने पाया कि सभी लोकतांत्रिक संगठनों की नींव प्रेस की स्वतंत्रता पर आधारित होती है। हालांकि प्रेस की स्वतंत्रता भी असीमित नहीं होती है।

कानून इस अधिकार के प्रयोग पर केवल उन प्रतिबंधों को लागू कर सकता है, जो अनुच्छेद 19 (2) के तहत आते है।

यूनेस्को के अनुसार इस वर्ष के विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस थीम के 3 मुख्य आकर्षण हैं

  • समाचार मीडिया की आर्थिक व्यवहार्यता सुनिश्चित करने के लिए कदम;
  • इंटरनेट कंपनियों की पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए तंत्र;
  • बढ़ी हुई मीडिया और सूचना साक्षरता (MIL) क्षमता लोगों को पहचानने और मूल्य देने और बचाव करने और पत्रकारिता को एक सार्वजनिक अच्छे के रूप में सूचना के एक महत्वपूर्ण हिस्से के रूप में मांगने में सक्षम बनाती है।

World Freedom Press Day का अहमियत और इतिहास

World Freedom Press Day आज प्रेस और उसके अन्य आधुनिक स्वरूप जिसे हम मीडिया कहते हैं, इसकी अहमियत अब जितनी है उतनी पहले कभी नहीं हुआ करती थी। सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिये इंटरनेट भी बहुत सहयोगी हो रहा है।

World Freedom Press Day सूचनाओं को किसी भी व्यक्ति तक पहुंचाना बहुत आसान हो गया है। लेकिन मीडिया को स्वतंत्रता होना बहुत ही आवश्यक है ताकि सही जानकारी हर व्यक्ति तक पहुंच सके मीडिया किसी के दबाव में आकर कोई न्यूज़ ना निकाले हमेशा स्वतंत्र होकर सही और सटीक सूचना ही लोगों तक पहुंचाएं।
पत्रकारों का यह फर्ज बनता है कि हर एक सूचना को वह जांच परख कर उस उसकी सच्चाई को जानकारी दिखाएं। ताकि मीडिया की छवि हमेशा स्वच्छ बनी रहे।


World Freedom Press Day अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता एक मौलिक मानवीय अधिकार है और प्रेस आम जनता को उनके देश और दुनिया भर में क्या हो रहा है, इसके बारे में जागरूक करने में सक्रिय रूप से महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस को दुनिया की सरकारों को भूमिका निभाने वाले पत्रकारों की याद दिलाने के लिए एक दिन के रूप में मनाया जाता है,

World Freedom Press Day यहां तक ​​कि सबसे तनावपूर्ण परिस्थितियों में भी जानकारी प्रदान करने में। यूनेस्को की वेबसाइट के अनुसार, यूनेस्को की आम सम्मेलन की सिफारिश के बाद, यूएन महासभा द्वारा दिसंबर 1993 में विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस की घोषणा की गई थी। तब से, हर साल विश्व प्रेस दिवस 3 मई को मनाया जाता है। यूनेस्को के अनुसार, विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस का उद्देश्य है:

READ | World Laughter Day 2021


प्रेस स्वतंत्रता के मूल सिद्धांतों का जश्न मनाएं;
दुनिया भर में प्रेस की स्वतंत्रता की स्थिति का आकलन करें;
अपनी स्वतंत्रता पर हमलों से मीडिया की रक्षा करें;
उन पत्रकारों को श्रद्धांजलि अर्पित करें, जिन्होंने कर्तव्य की पंक्ति में अपनी जान गंवाई है।

Leave a Reply

You May Also Like

Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा कैसे ले सकते हैं?

Table of Contents Hide Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: नामदीक्षा लेना…

Rishi Parashara : पाराशर ऋषि ने अपनी पुत्री के साथ किया संभोग

पाराशर ऋषि भगवान शिव के अनन्य उपासक थे। उन्हें अपनी मां से पता चला कि उनके पिता तथा भाइयों का राक्षसों ने वध कर दिया। उस समय पाराशर गर्भ में थे। उन्हें यह भी बताया गया कि यह सब विश्वामित्र के श्राप के कारण ही राक्षसों ने किया। तब तो वह आग बबूला हो उठे। अपने पिता तथा भाइयों के यूं किए वध का बदला लेने का निश्चय कर लिया। इसके लिए भगवान शिव से प्रार्थना कर आशीर्वाद भी मांग लिया।

Marne Ke Baad Kya Hota Hai: स्वर्ग के बाद इस लोक में जाती है आत्मा!

Table of Contents Hide Marne Ke Baad Kya Hota Hai : मौत…

Kalyug Ka Ant : कलयुग के अंत में क्या होगा?

Table of Contents Hide Kalyug Ka Ant: वर्तमान में कलयुग कितना बीत…