Bad-Effects-Of-Fast-Food

Bad Effects Of Fast Food: स्वादिष्ट भोजन का आनंद हर कोई व्यक्ति लेना चाहता है। इस बात में कोई शक नहीं है। बाहर के चटपटे भोजन हर व्यक्ति खाता है। जंक फूड या चटपटे भोजन का आनंद लेने के चक्कर में हम भोजन की गुणवत्ता पर ध्यान देना भूल जाते हैं। जंक फूड में काफी नुकसानदायक चीजें होती है। जिन्हें समय रहते समझ लेना चाहिए। जायकेदार खाने के चक्कर में अपनी सेहत के साथ हम खिलवाड़ कर लेते हैं। आइए आज हम जानेंगे फास्ट फूड या जंक फूड के नुकसान कैसे यह हमारे शरीर में नुकसान दायक है? इससे हम कैसे बच सकते हैं?

Bad Effects Of Fast Food: जंक फूड क्या है? क्यों यह हमारे लिए खराब है?

बाहर के चटपटे भोजन हर व्यक्ति खाता है। जंक फूड या चटपटे भोजन का आनंद लेने के चक्कर में हम भोजन की गुणवत्ता पर ध्यान देना भूल जाते हैं। जंक फूड में काफी नुकसानदायक चीजें होती है। जिन्हें समय रहते समझ लेना चाहिए। जायकेदार खाने के चक्कर में अपनी सेहत के साथ हम खिलवाड़ कर लेते हैं।
जंक फूड प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ है जिसमें पोषक तत्व न के बराबर होते हैं, अक्सर इनमें नमक, चीनी और वसा की मात्रा अधिक होती है।

Bad Effects Of Fast Food: जंक फूड या फास्ट फूड


चलते-फिरते समय का एक लोकप्रिय भोजन विकल्प बन गए हैं। लेकिन आपको इनका सेवन करने से पहले यह जानना आवश्यक है कि कौन सा खाद्य पदार्थ आपके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है। अक्सर हम जंक फूड और फास्ट फूड को पहचानने में भ्रमित हो जाते हैं, वे दोनों कैसे अलग हैं?

Bad Effects Of Fast Food: जंक फूड या अस्वास्थ्यकर भोजन क्या है?

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, जंक फूड प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ है जिसमें पोषक तत्व न के बराबर होते हैं, अक्सर इनमें नमक, चीनी और वसा की मात्रा अधिक होती है।

जंक फूड उच्च कैलोरी युक्त खाद्य पदार्थ हैं, ये खाद्य पदार्थ इस तरह से तैयार किए जाते हैं कि वे आकर्षक दिखें खाने में स्वादिष्ट हो, ताकि आप इनकी मांग अधिक से अधिक करें। व्यावसायिक उत्पाद जिनमें नमकीन स्नैक फूड, गम, कैंडी, शक्कर युक्त मिठाइयां, तला हुआ भोजन और मीठे कार्बोनेटेड पेय शामिल हैं, जो बहुत ही कम या बिना पौष्टिक वाले होते हैं, इनमें ज्यादा नमक और वसा होती है इसे जंक फूड माना जा सकता है। जिसे खाने से हमारे शरीर में कोई पोस्टिक तत्व नहीं आता है। स्वास्थ्य के लिए कोई फायदा नहीं होता है।

Bad Effects Of Fast Food
Bad Effects Of Fast Food

सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट द्वारा प्रयोगशाला किए गए एक अध्ययन के अनुसार, भारत में बिकने वाले ज्यादातर पैकेज्ड फूड और फास्ट फूड में नमक और वसा की बहुत अधिक मात्रा होती है। अध्ययन में कहा गया है कि खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) द्वारा निर्धारित मानकों की तुलना में खाद्य पदार्थों में नमक और वसा का स्तर बहुत अधिक पाया गया।

सीएसई के पर्यावरण निगरानी प्रयोगशाला (ईएमएल) ने 33 लोकप्रिय जंक फूड पदार्थों में नमक, वसा, ट्रांस वसा और कार्बोहाइड्रेट का परीक्षण किया, जिसमें चिप्स, नमकीन, इंस्टेंट नूडल्स और इंस्टेंट सूप के 14 नमूने और बर्गर, फ्राइज, फ्राइड चिकन, पिज्जा, सैंडविच के 14 नमूने शामिल थे। इन नमूनों को दिल्ली में किराने की दुकानों और फास्ट फूड आउटलेट से एकत्र किया गया था और देश भर में इन्हें व्यापक रूप से बेचा और इनकी खपत के लिए जाना जाता है।
जंक फूड आपके लिए क्यों खराब हैं?

Bad Effects Of Fast Food: जंक फूड के लगातार सेवन से अतिरिक्त वसा, सामान्य कार्बोहाइड्रेट और प्रसंस्कृत चीनी का सेवन बढ़ जाता है जिससे मोटापा और हृदय रोगों का खतरा बढ़ सकता है। परिणामस्वरूप मोटापा धमनियों का रुकना शुरू कर सकता है जिसकी वजह से दिल का दौरा पड़ सकता है। यह भी सुझाव दिया गया है कि जंक फूड खाने से मस्तिष्क उसी तरह प्रभावित होता है जैसे नशे की दवाओं का सेवन करने से।

आईसीएमआर के अनुसार जंक फूड या अस्वास्थ्यकर आहार के कारण बीमारियां बढ़ गई हैं, 1990 के बाद इनमें 10 फीसदी से 25 फीसदी तक की वृद्धि हुई है।

जंक फूड की लत से फल, सब्जियां, सलाद आदि जैसे स्वास्थ्यप्रद खाद्य विकल्पों को खाने का मन नहीं करता है, जिसके कारण शरीर में पोषण की कमी हो जाती है।

Bad Effects Of Fast Food: क्या है प्रोसेस्ड फूड 

प्रोसेस फूड वह होते हैं जिन्हें लंबे समय तक खाने के लिए संरक्षित किया जाता है। इसमें फ्लेवर्स व रंगों (Flavors & Colors) का इस्तेमाल किया जाता है, जो स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव (Adverse effects on health) डालते हैं। 

और क्या क्या पड़ते हैं प्रभाव 

1. सोचने की क्षमता पर प्रभाव 

प्रोसेस्ड फूड में पोष्टिक तत्व (Nutritious ingredients) न के बराबर होते हैं। और जब शरीर को जरूरी न्यूट्रिएंट्स नहीं मिल पाते, तो शरीर सोचने समझने की क्षमता खोने लगता है। इसलिए अक्सर इसका सेवन न करने की सलाह दी जाती है।

What Is Junk Food And Why Is It Bad For You In Hindi©

2. एलर्जी का खतरा 

Bad Effects Of Fast Food: फ्लेवर्स व रंगों का अधिक इस्तेमाल होने के कारण यह त्वचा पर एलर्जी का कारण बनता है और कई बार यह एलर्जी इतनी अधिक बढ़ जाती है कि उसका इलाज भी संभव नहीं हो पाता है। आपने देखा होगा अधिकतर प्रोसेस्ड फूड में किसी न किसी तरह के रंगों का प्रयोग किया जाता है। 

3. कमजोर हड्डियों की वजह 

What Is Junk Food And Why Is It Bad For You In Hindi©

Bad Effects Of Fast Food: प्रोसेस्ड फूड में फास्फेट नामक तत्व मिलाया जाता है, जिसके कारण खाना टेस्टी बनता है। लेकिन ये तत्व आपकी हड्डियों को कमजोर बनाता है। कई लोग हैं जो दिनभर इसका सेवन काफी करते हैं उनके शरीर में फास्फेट की अधिक मात्रा शामिल हो जाती है इसलिए इसके सेवन से बचना चाहिए।

4. मूड स्विंग 

Bad Effects Of Fast Food: फास्ट फूड में ट्रांस फैट अधिक होने के कारण ये शरीर में ओमेगा 3 फैटी एसिड के संतुलन को बिगाड़ने का काम करते हैं। और जब इसका संतुलन बिगड़ता है, तो यह मूड स्विंग होने का कारण बनता है। 

Bad Effects Of Fast Food: आप जंक फूड से कैसे बच सकते हैं?

जिन खाद्य पदार्थों में ट्रांस-वसा, परिष्कृत अनाज, नमक और उच्च फ्रुक्टोज कॉर्न सिरप शामिल होता है उन्हें घर लाने से बचना चाहिए। उन खाद्य पदार्थों से बचें जिनके लेबल पर कॉर्न स्वीटनर, कॉर्न सिरप, कॉर्न सिरप ठोस, आंशिक रूप से हाइड्रोजनीकृत, या हाइड्रोजनीकृत हों।

Bad Effects Of Fast Food: जंक फूड को सही तरीके से लेबल करना क्यों महत्वपूर्ण है?

दुनिया भर में जंक फूड को स्वास्थ्य के लिए हानिकारक माना गया है। ये गैर-संचारी रोगों (एनसीडी) को जन्म देते हैं, विशेष रूप से गरीब देशों में कुपोषण और मोटापे के दोहरे बोझ के लिए जिम्मेदार हैं।

लेबल लगाने से स्कूलों और विश्वविद्यालयों तक पहुंचने और इनकी उपलब्धता को प्रतिबंधित करने के अलावा, इसे एक महत्वपूर्ण नियामक उपकरण के रूप में अपनाया जा सकता है।

Bad Effects Of Fast Food: कैसे छोड़ा जा सकता है जंक फूड का सेवन?

ध्यान दें कि जंक फूड को छोड़ना एक लगातार चलने वाली प्रक्रिया है। यदि आप ऐसे व्यक्ति हैं जो जंक फूड की दैनिक खुराक के आदी हैं, तो आपके लिए इन्हें छोड़ना जरा सा कठिन होगा। पहले कुछ दिन कठिन हो सकते हैं क्योंकि आप इनमें से कुछ लक्षणों का अनुभव कर सकते हैं: चिड़चिड़ापन, सिरदर्द, ऊर्जा के स्तर में गिरावट और इसी तरह। धीरे-धीरे आप इससे छुटकारा पा सकते हैं।

■ Also Read: 7 Benifits of Lemon : नींबू पानी पीने के स्वास्थ्य लाभ

■ Also Read: Best Weight Loss Drinks : ये पांच ड्रिंक्स हैं मोटापा कम करने में फायदेमंद

Leave a Reply

You May Also Like

Rishi Parashara : पाराशर ऋषि ने अपनी पुत्री के साथ किया संभोग

पाराशर ऋषि भगवान शिव के अनन्य उपासक थे। उन्हें अपनी मां से पता चला कि उनके पिता तथा भाइयों का राक्षसों ने वध कर दिया। उस समय पाराशर गर्भ में थे। उन्हें यह भी बताया गया कि यह सब विश्वामित्र के श्राप के कारण ही राक्षसों ने किया। तब तो वह आग बबूला हो उठे। अपने पिता तथा भाइयों के यूं किए वध का बदला लेने का निश्चय कर लिया। इसके लिए भगवान शिव से प्रार्थना कर आशीर्वाद भी मांग लिया।

Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा कैसे ले सकते हैं?

Table of Contents Hide Sant Rampal Ji Maharaj Naam Diksha: नामदीक्षा लेना…

Ranbir Alia Wedding: कपूर खानदान की बहू बनीं आलिया भट्ट, तस्वीरें वायरल

Table of Contents Hide शादी से पहली फोटो आई सामनेआलिया ने शेयर…

Mirabai Story in Hindi: मीरा बाई की जीवनी, मीरा बाई की मृत्यु कैसे हुई

Mirabai Story in Hindi: कृष्ण भक्ति में लीन रहने वाली मीराबाई को राजस्थान में सब जानते ही होंगे। आज हम जानेंगे कि मीराबाई का जन्म कब और कहां हुआ? {Mirabai Story in Hindi} मीराबाई के गुरु कौन थे? कृष्ण भक्ति से क्या लाभ मिला? मीराबाई ने अपने जीवन में बहुत संघर्ष किया। गुरु बनाना क्यों आवश्यक है? आइए जानते हैं।